शिमला : बारिश के कहर से स्कूल की 5 मंजिल इमारत गिरी, कोई जानी नुकसान नहीं

शिमला. हिमाचल प्रदेश में बीते तीन दिन से लगातार हो रही बारिश ने अब कहर बरपाना शुरू कर दिया है. शिमला के नॉर्थ ओक संजौली में बारिश की वजह से निजी स्कूल की 5 मंजिला इमारत गिर गई है. शुक्रवार सुबह यह इमारत गिरी है. गनीमत ये रही कि इसके गिरने से कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है. बीती रात ही इस मकान को खाली करवा दिया गया था.

दरअसल, इस भवन में एक निजी स्कूल चल रहा था. कुछ लोग इस भवन में रह रहे थे. भवन के नीचे खुदाई का काम चल रहा था, जिसके चलते भवन को खतरा हो गया था. बीते दिन ही नगर निगम और जिला प्रशासन ने इस भवन को खाली करवा दिया था. भवन गिरने से वर्कशाप ओर साथ में लगते मकान को भी नुकसान पहुचा. इससे पहले, बीते शुक्रवार को शहरी विकास मंत्री सुरेश भरद्वाज ने मौके का निरीक्षण भी किया था.

मेयर सत्या कौंडल के मुताबिक़ भवन मालिक को इसकी सूचना दे दी गई है, लेकिन भवन किस वजह से गिरा है उसकी जांच की जाएगी.बता दें कि बुधवार को भारी बारिश और ओलावृष्टि ने शहर में खूब कहर मचाया था जिसके चलते भवन को खतरा पैदा हो गया था. गुरुवार को प्रशासन ने इसे खाली करवाया और खुद शहरी मंत्री सुरेश भारद्वाज ने मौके का जायजा लिया और प्रभावित को हर सम्भव सहायता और एमडीएम को जांच के निर्देश दिए.

नगर निगम के उपमहापौर शैलेंद्र चौहान का कहना है कि गुरुवार को इस भवन को खाली करवा दिया गया था. भवन के नीचे खुदाई के चलते इसे खतरा पैदा हो गया था. 2 दिन से हो रही बारिश के चलते मलवा नीचे आने से पूरा भवन नीचे आ गया. कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि नीचे खुदाई कर रहे मालिक को नगर निगम ने कई बार नोटिस भी दिया था, लेकिन यह काम नहीं रोका गया.

शिमला में जनजीवन अस्तव्यस्त
शिमला में लगातार बारिश और नारकंडा, खड़ापत्थर, खिड़की समेत चांशल में बर्फ गिरने से यातायात अवरुद्ध हुआ है. बर्फबारी से जनजीवन अस्त व्यस्त हुआ और सेब समेत कई फसलों का नुकसान पहुंचा है. डीसी आदित्य नेगी का दावा है कि ऊपरी शिमला की ओर जाने वाली सड़कें जल्द बहाल होंगी. साथ ही बर्फबारी, ओलावृष्टि और आंधी तूफान से नुकसान का आंकलन किया जा रहा है. बारिश से हुए नुकसान पर प्रभावितों को मुआवजा दिया जाएगा.