PWD ने 32 करोड़ का टेंडर किया रद्द, कारण फर्जी दस्तावेज

लोक निर्माण विभाग (लोनिवि) के टौणीदेवी डिवीजन के तहत एक ठेकेदार ने फर्जी दस्तावेज लगाकर 32.58 करोड़ रुपये का टेंडर हासिल करने का प्रयास किया। इस जालसाजी का भंडाफोड़ तब हुआ, जब विभाग ने टेंडर अवार्ड करने के बाद अपने स्तर पर ठेकेदार के दस्तावेजों की जांच की। जांच में वर्क डन का सर्टिफिकेट जाली निकला, जिसके चलते विभाग ने टेंडर रद्द कर दिया।

लोनिवि ने अब फिर टेंडर आमंत्रित किए हैं। बता दें कि टौणीदेवी लोनिवि के मंडल कार्यालय के अंतर्गत 23 किलोमीटर लंबे सुजानपुर-हमीरपुर वाया कोट-चौरी-पटलांदर सड़क के स्तरोन्नयन के लिए केंद्रीय रोड फंड से 32.58 करोड़ का बजट केंद्र से स्वीकृत हुआ। इसमें टारिंग, सड़क की चौड़ाई बढ़ाना, ब्लैक स्पॉट खत्म करना, निकासी नालियों का निर्माण और भूस्खलन वाले स्पॉट पर डंगे लगाने का काम होगा।

विभाग ने बीते माह टेंडर आमंत्रित किए। लोनिवि के एसडीओ रविंद्र सकलानी ने बताया कि इस कार्य के लिए आमंत्रित टेंडर में सबसे कम रेट भरने और अन्य शर्तें पूरा करने पर हरियाणा की एक फर्म को काम आवंटित हुआ। जब विभाग ने बाद में फर्म के दस्तावेजों की जांच की तो उसमें वर्क डन का सर्टिफिकेट जाली निकला, जिसके चलते टेंडर रद्द कर दिया। नए टेंडर की प्रक्रिया एक्सईएन और अधीक्षण अभियंता कार्यालय में अमल में लाई जा रही है। उधर, टौणीदेवी स्थित लोनिवि के एक्सईएन अरविंद लखनपाल ने बताया कि उक्त मार्ग के लिए सीआरएफ के तहत 32.58 करोड़ रुपये का बजट स्वीकृत हुआ है।