New Education Policy HPU: हिमाचल में यूजी डिग्री कोर्स में फिर लागू होगा सेमेस्टर सिस्टम, बैठक के बाद निर्देश जारी

0
4

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शैक्षणिक सत्र 2022-23 से ही यूजी डिग्री कोर्स में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को स्नातक डिग्री कोर्स में लागू करने जा रहा है। नई शिक्षा नीति के तहत स्नातक डिग्री कोर्स में एक बार फिर से सेमेस्टर सिस्टम लागू किया जा रहा है। इसके लिए नीति के अनुरूप स्नातक डिग्री कोर्स के पाठ्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। स्नातक डिग्री कोर्स के बीए, बीएससी, बी कॉम सहित अन्य कोर्स के पाठ्यक्रम में आवश्यक बदलाव के लिए विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता अध्ययन प्रो. कुलभूषण चंदेल ने विभागाध्यक्षों के साथ बैठक कर प्रारूप तैयार करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इसे बाकायदा अधिष्ठाता समिति की बैठक में अनुमोदित करवा दिया गया।

इसी माह अंत तक इसे बोर्ड ऑफ स्टडीज, अकादमिक काउंसिल से मंजूरी दिलवाने के बाद विवि की कार्यकारिणी परिषद से मंजूर करवा दिया जाएगा। यूजीसी की ओर से जारी किए गए नई शिक्षा नीति के ड्राफ्ट के अनुसार विभागाध्यक्षों को पाठ्यक्रम तैयार करना होगा। इसके साथ ही यूजी डिग्री कोर्स में नए सत्र से मल्टीपल एग्जिट, एंट्री, एड ऑन कोर्स, स्किल बेस्ड कोर्स का बास्केट तैयार करने की प्रक्रिया भी शुरू की है। इन कोर्स की बास्केट में से यूजी के छात्र अपनी इच्छा से उन्हें चुन पाएंगे। इसके उन्हें अलग से क्रेडिट भी मिलेंगे। एचपीयू से संबद्ध सभी कॉलेजों में नीति लागू की जाएगी।

विश्वविद्यालय में 2013 से 2018 में रूसा सीबीसीएस के तहत लागू किए गए सेमेस्टर सिस्टम को एक बार फिर से नई शिक्षा नीति के लागू होने के बाद यूजी डिग्री कोर्स में लागू किया जा रहा है। प्रो. कुलभूषण चंदेल ने कहा कि इसी सत्र से स्नातक डिग्री कोर्स में नई शिक्षा नीति को लागू किया जाएगा। इसके लिए सिलेबस में आवश्यक बदलाव करने के लिए सभी विभागाध्यक्षों के साथ बैठक कर दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए है। 15 दिनों में पाठ्यक्रम का प्रारूप तैयार कर इसे बोर्ड ऑफ स्टडीज और अकदामकिक काउंसिल से मंजूर करवा दिया जाएगा। इसके बाद ईसी से इसे अंतिम मंजूरी दिलवाई जाएगी। इसको लेकर सभी कॉलेजों को समय से दिशा-निर्देश जारी कर दिए जाएंगे।

शिक्षा नीति को पूरी तरह से किया जाएगा लागू
विश्वविद्यालय के कार्यवाहक कुलपति और केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एसपी बंसल ने कहा कि नए सत्र से यूजी में नई शिक्षा नीति को पूरी तरह से लागू किया जाएगा। इसके इसी माह पाठ्यक्रम सहित सभी तैयारियां इसी माह अंत तक पूरी की जाएगी, जिससे कॉलेजों में नई शिक्षा नीति के  अनुसार प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो।