मसालों की दिग्गज कंपनी ‘एमडीएच’ के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन

मसालों की दिग्गज कंपनी ‘एमडीएच’ के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का 98 साल की उम्र में निधन हो गया है। गुरुवार सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली। उन्होंने कोरोना को हरा दिया था, लेकिन दिल का दौरा पडऩे से उनका निधन हो गया। पिछले ही साल उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। 1927 में पाकिस्तान के सियालकोट में जन्मे धर्मपाल गुलाटी ने पांचवीं के बाद ही पढ़ाई छोड़ दी।
कुछ साल बाद अपने पिता की मदद से शीशे का छोटा सा कारोबार शुरू किया। छोटे-छोटे कई कामों में उन्होंने हाथ आजमाया, लेकिन मन नहीं लगा। मसाले का काम उनके घर में पहले से होता था। उन्होंने इसी में पूरा मन लगाकर काम करना शुरू किया और आज पूरी दुनिया में उनकी कंपनी अलग से पहचानी जाती है।

दिल्ली की सड़कों पर तांगा चलाते थे, फिर मसालों के कारोबार से अरबपति बनने की कहानी

एमडीएच मसाले के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का बुधवार सुबह 5:30 बजे 98 साल की उम्र में हार्ट अटैक से निधन हो गया। दिल्ली में पिछले तीन हफ्ते से उनका इलाज चल रहा था। आज दोपहर में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। उद्योग जगत में योगदान के लिए महाशय धर्मपाल को पिछले साल पद्मविभूषण से सम्मानित किया गया था। वे कभी दिल्ली की सड़कों पर तांगा चलाते थे और फिर अरबों के कारोबारी बने। हम उनकी कहानी बता रहे हैं…
धर्मपाल का परिवार पाकिस्तान के सियालकोट में रहता था। उनकी पढऩे में रुचि नहीं थी। पिता चुन्नीलाल ने काफी कोशिश भी की, लेकिन मन नहीं लगा। 1933 में उन्होंने पांचवीं का इम्तिहान भी नहीं दिया और किताबों से हमेशा के लिए तौबा कर ली। पिता ने एक जगह काम पर लगा दिया, लेकिन यहां भी मन नहीं लगा। एक के बाद एक कई काम छोड़े। पिता चिंता में पड़ गए, तब उन्हें सियालकोट में मसाले की दुकान खुलवा दी। यह उनका पुश्तैनी कारोबार था। दुकान चल पड़ी। इसे पंजाबी में महाशियां दी हट्टी (महाशय की दुकान) कहा जाता था। इसीलिए उनकी कंपनी का नाम इसी का शॉर्ट फॉर्म एमडीएच पड़ा।
सब ठीक चल रहा था। उसी समय देश का विभाजन हो गया। सियालकोट पाकिस्तान में चला गया। परिवार सब कुछ छोड़कर सितंबर 1947 में अमृतसर फिर कुछ दिन बाद दिल्ली आ गया। तब उनकी उम्र 20 साल थी। विभाजन के दर्द को उन्होंने बखूबी देखा और महसूस किया था। उन्हें पता था कि परिवार पाकिस्तान में सब कुछ छोड़ आया है और हिंदुस्तान में सब नए सिरे से शुरू करना है। उनके कारोबार के शुरुआती दिनों में पत्नी का भी भरपूर सहयोग मिला।
जेब में सिर्फ 1500 रुपए थे। परिवार पालना था, इसलिए उन्होंने 650 रुपए में एक तांगा खरीदा और इस पर दिल्ली की सड़कों पर सवारियां ढोने लगे। एक सवारी से दो आना किराया लेते थे, लेकिन कहते हैं न कि जिसका काम उसी को साजे। महाशय का मन तो कारोबार में रमता था, इसलिए दो महीने बाद तांगा चलाना बंद कर दिया। जो पूंजी थी उसी में घर पर ही मसाला बनाना और बेचना शुरू कर दिया।
भारत-पाकिस्तान विभाजन के बाद दिल्ली के करोलबाग में धर्मपाल गुलाटी ने मसालों की दुकान खोली थी। उनके मसाले शुद्धता के लिए मशहूर थे, इसलिए कारोबार तेजी से बढ़ा। धर्मपाल ने दिल्ली के कीर्तिनगर में कम पूंजी के साथ पहली फैक्टरी लगाई। आज एमडीएच देश-दुनिया में अपना स्वाद और खुशबू बिखेर रहा है।
इसके मसाले लंदन, शारजाह, अमरीका, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड, हांगकांग, सिंगापुर समेत कई देशों में मिलते हैं। 1000 से ज्यादा डिस्ट्रीब्यूटर और चार लाख से ज्यादा रिटेल डीलर्स हैं। करीब 2000 करोड़ रुपए का कारोबार है। इस कंपनी के पास आधुनिक मशीनें हैं, जिनसे एक दिन में 30 टन मसालों की पिसाई और पैकिंग की जा सकती है।
महाशय की जिंदगी तकलीफ में गुजरी थी, इसलिए दूसरों का दर्द बांटने के लिए हमेशा आगे रहते थे। उन्होंने पिता के नाम पर महाशय चुन्नीलाल चैरिटेबल ट्रस्ट की स्थापना की। इसके तहत कई स्कूल, अस्पताल और आश्रम बनवाए, जो गरीबों और जरूरतमंदों की मदद में लगे हैं।