Himachal Upchunav : जनादेश ईवीएम में कैद, दो नवंबर को होगी मतगणना

हिमाचल प्रदेश की चार सीटों के हुए उपचुनाव में जनता का फैसला ईवीएम मशीनों मेें कैद हो चुका है। जनता ने किसको अपना जनता देश दिया है। इसका पता दो नवंबर को होने वाली मतगणना के परिणामों के बाद सामने आएगा। शनिवार को हिमाचल प्रदेश में एक संसदीय सीट और तीन विधानसभा सीटों के लिए मतदान हो चुका है। मंडी संसदीय सीट पर सबसे कम मतदान हुआ है, जबकि जुब्बल कोटखाई विधानसभा सीट की बात करें, तो यहां पर सबसे ज्यादा मतदान हुआ है। चुनाव आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार मंडी सीट पर 60 फीसदी मतदान भी नहीं हो पाया है। मंडी संसदीय सीट पर सिर्फ 57.73 प्रतिशत मतदान हुआ है।

जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र में सबसे ज्यादा 78.75 प्रतिशत मतदान हुआ है। इसके अलावा अर्की विधानसभा क्षेत्र में 64.97 प्रतिशत, जबकि फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र में 66.20 प्रतिशत मतदान हुआ है। उधर, मंडी संसदीय सीट के तहत 17 विधानसभा क्षेत्र आते है। 17 विधानसभा क्षेत्रों में सबसे ज्यादा मतदान सराज विधानसभा क्षेत्र में हुआ है। यह विधानसभा क्षेत्र मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का विधानसभा क्षेत्र है। जानकारों का मानना है कि इस विधानसभा सीट पर भाजपा की पकड़ काफी मजबूत है। ऐसे में इस सीट पर रिकार्ड मतदान कांग्रेस के लिए मुश्किलें पैदा कर सकता है। वहीं, कांग्रेस मजबूत क्षेत्र माने वाले रामपुर विधानसभा क्षेत्र में सिर्फ 59.59 प्रतिशत मतदान ही हुआ है। इसके अलावा जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो यहां 81.9 प्रतिशत पुरुषों ने मतदान किया है, जबकि 75 प्रतिशत महिला मतदाताओं ने मतदान किया है।