हिमाचल में नए डीजीपी के चयन को लेकर सरकार ने की कवायद तेज

31 मई को रिटायर होने जा रहे पुलिस महानिदेशक सीताराम मरडी के बाद अगले डीजीपी के चयन को सरकार ने कवायद तेज कर दी है। मंगलवार को नई दिल्ली स्थित संघ लोक सेवा आयोग के कार्यालय में हुई बैठक में चर्चा के बाद प्रदेश सरकार की ओर से भेजे गए तीन नामों के पैनल को मंजूरी दे दी। इसके साथ ही अब सूबे में नया डीजीपी कौन होगा, इसका फैसला मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करेंगे। पैनल में जिन तीन अधिकारियों के नाम शामिल हैं, उनमें 1984 बैच के पूर्व डीजीपी व डीजी जेल सोमेश गोयल के अलावा 1989 बैच के आईपीएस व प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री संजय कुंडू और केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चल रहे संजीव रंजन ओझा शामिल हैं।

चूंकि ओझा के पास अभी लंबा कार्यकाल है और वर्तमान में वह केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं, ऐसे में उनके नाम की संभावना कम है। सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री के करीबी होने के चलते कुंडू का नाम डीजीपी बनने के लिए सबसे आगे हैं। वहीं, गोयल को इसी सरकार ने सत्तासीन होते ही हटा दिया था। इसके बाद उनसे दो बैच जूनियर सीताराम मरडी को डीजीपी लगाकर सरकार नई परिपाटी शुरू कर चुकी है। ऐसे में गोयल के नाम पर रजामंदी बनने की संभावना भी कम है। हालांकि अगर मुख्यमंत्री को कुंडू जैसा भरोसेमंद अधिकारी नहीं मिलता है तो बड़ा उलटफेर भी संभव है। आईएएस लॉबी भी उनके पक्ष में है।