केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों का आज भारत बंद

केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों द्वारा मंगलवार यानी आठ दिसंबर को भारत बंद का आयोजन किया गया है। भारत बंद से पहले सोमवार शाम किसानों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि उनका भारत बंद पूरी तरह शांतिपूर्ण होगा। किसान नेता डा. दर्शन पाल ने कहा कि हम मंगलवार को भारत बंद के दौरान सुबह से लेकर तीन बजे तक चक्का काम करेंगे। हमारा बंद शांतिपूर्ण होगा। साथ ही हम यह ऐलान करते हैं कि किसी भी राजनीतिक दल को हम अपने मंच पर जगह नहीं देंगे। यह किसानों का प्रदर्शन है, किसी राजनीतिक दल का नहीं।
किसान नेताओं ने सिंघु बार्डर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की और अपने प्रदर्शन के बारे में मीडिया को जानकारी दी। किसान नेता निर्भय सिंह ने बताया कि हमारा प्रदर्शन पंजाब तक सीमित नहीं है, हमारे आंदोलन को देश के बाहर से भी समर्थन मिल रहा है। कनाडा और यूके जैसे देशों से हमारे प्रदर्शन को समर्थन मिल रहा है। गौरतलब है कि कृषि बिल के खिलाफ किसान दिल्ली में पिछले 12 दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं।

आठ राज्यों में होगा बंद का असर
भारत बंद को अब तक आठ राज्य सरकारों का समर्थन मिल गया है। इनमें दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, झारखंड, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, केरल और महाराष्ट्र सरकार शामिल हैं।

न बाजार बंद होंगे, न ही गाडि़यां रुकेंगी
नई दिल्ली। व्यापारियों के संगठन अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ और ट्रांसपोर्टरों के संगठन ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन ने सोमवार को कहा कि दोनों संगठन आठ दिसंबर को ‘भारत बंद’ में शामिल नहीं होंगे। दोनों संगठनों ने कहा है कि मंगलवार को दिल्ली सहित देश भर के बाज़ार पूरी तरह से खुले रहेंगे और सामान्य रूप से कारोबारी गतिविधियां चालू रहेंगी, वहीं परिवहन-मालवहन क्षेत्र भी यथावत काम करता रहेगा और माल की आवाजाही भी पूरी तरह चालू रहेगी।
किसानों का वादा, लोगों को नहीं होने देंगे परेशान
किसान संगठनों ने कहा कि लोग इससे परेशान नहीं होंगे। आम लोग रोज की तरह अपने ऑफिस जा सकेंगे। रास्ते में उन्हें परेशान नहीं किया जाएगा। एंबुलेंस और विवाह समारोहों में किसी तरह की रुकावट नहीं डाली जाएगी। भारत बंद के दौरान किसी तरह का उपद्रव नहीं होगा। शांतिपूर्ण प्रदर्शन किए जाएंगे।
अवार्ड वापसी पर अड़े 30 खिलाड़ी
किसानों के लिए समर्थन बढ़ता जा रहा है। इसी कड़ी में 30 खिलाड़ी अपने अवार्ड को वापस करने के लिए सोमवार को राष्ट्रपति भवन की तरफ बढ़े, लेकिन दिल्ली पुलिस ने उन्हें बीच रास्ते में ही रोक दिया गया।
केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा, सुरक्षा बढ़ाओ
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने किसान संगठनों के आह्वान पर मंगलवार को देश भर में ‘भारत बंद’ के मद्देनजर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने और शांति बनाए रखने को कहा है। मंत्रालय के अनुसार केंद्रीय गृह सचिव ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को परामर्श जारी कर कहा है कि मंगलवार को किसान संगठनों ने देश भर में भारत बंद का आह्वान किया है। इस बंद को विपक्षी दलों और कई अन्य संगठनों तथा ट्रेड यूनियनों ने भी समर्थन दिया है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा गया है कि वे बंद के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करें तथा कानून व्यवथा की स्थिति
बनाए रखें। परामर्श में कहा गया है कि राज्य सरकारों का हर संभव प्रयास करने चाहिए कि कहीं भी किसी तरह की कोई अप्रिय घटना न हो और सब जगह शांतिपूर्ण स्थिति बनी रहे। इसके अलावा राज्य प्रशासन से यह भी कहा गया है कि वे कोरोना महामारी को देखते हुए देश भर में कोविड के संबंध में जारी राष्ट्रीय दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन सुनिश्चित करें। इस तरह के सभी उपाय किए जाए,ं जिससे कि कोविड संबंधी निर्देशों का उल्लंघन न होने पाए।