रिटायरमेंट से पहले तिरंगे में लिपटकर आया लाड़ला

0
2

सराज क्षेत्र की सुनाह लंबाथाच पंचायत के देशराज को क्या मालूम था कि सेवानिवृत्ति से मात्र 21 दिन पूर्व ह्रदय गति रुकने से उनकी मौत हो जाएगी। सैनिक के परिजन उनकी 31 जुलाई को होने वाले रिटायरमेंट को यादगार बनाने की तैयारियों में जुटे हुए थे। इसी बीच ड्यूटी के समय छाती में अचानक दर्द हो उठी। सैनिक देशराज ठाकुर के सहयोगियों ने उन्हें उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में मौजूद चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बता दें देशराज वर्ष 1998 में डोगरा रेजिमेंट में भर्ती हुए थे। 24 साल की नौकरी करने के बाद अब 31 जुलाई को उनकी सेवानिवृत्ति होने थी। सनद रहे कि देशराज जून माह में अपनी रिश्तेदारी में किसी समारोह में शरीक होने के लिए छुट्टी आए थे। चार जुलाई को छुट्टियां काटकर अपनी ड्यूटी पर वापस लौटे थे।

हालांकि 31 जुलाई को सेवानिवृत्ति के दौरान उन्होंने अपने घर में एक शानदार कार्यक्रम करने की योजना बनाई थी, जिसके सफल आयोजन तथा इसे यादगार बनाने के लिए परिजनों के साथ विस्तृत चर्चा करने के बाद वे उतर प्रदेश के फैजाबाद जिला के प्रशिक्षण केंद्र में अपनी ड्यूटी पर लौट गए थे। एसडीएम थुनाग पारस अग्रवाल ने बताया कि जवान की पार्थिव देह सोमवार दोपहर उनके पैतृक गांव पहुंचने के बाद राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। प्रशासन की ओर से तहसीलदार थुनाग दीक्षांत ठाकुर भी मौजूद थे। मृतक देशराज की पत्नी, पिता रामचंद्र, बेटा नीतिन तथा बेटी शिवानी सहित अन्य सगे संबंधियों ने रोते-बिखलते उन्हें अंतिम विदाई दी।