देशभर में फैली नूपुर के विरोध की ‘आग’, जुमे की नमाज के बाद पूरे देश में बवाल

पैगंबर मोहम्मद पर नूपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते सप्ताह शुक्रवार को कानपुर में इस मसले पर जमकर हिंसा हुई थी और इसे लेकर इस बार यूपी सरकार बेहद सतर्क रही। यूपी में तो प्रयागराज और सहारनपुर को छोड़कर कमोबेश शांति बनी रही, लेकिन देश के अन्य राज्यों में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हुए। इसकी पहली तस्वीर दिल्ली की जामा मस्जिद से सामने आई, जहां जुमे की नमाज के बाद बड़ी संख्या में लोग नारेबाजी करने लगे। मामले में कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे इन लोगों के हाथों में नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की तस्वीरों वाले पोस्टर थे। हालांकि मस्जिद के शाही इमाम ने इस प्रदर्शन से किसी भी तरह के संबंध से इनकार किया। दिल्ली के अलावा यूपी के सहारनपुर में बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे और प्रयागराज में तो हालात कानपुर जैसे होते-होते बचे। प्रयागराज में मुस्लिम बाहुल्य इलाके में जुमे की नमाज के बाद हजारों की भीड़ ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। इससे हड़कंप मच गया। पुलिस ने जब लाठीचार्ज किया, तो भीड़ गलियों और छतों पर पहुंच गई और पुलिस पर पथराव करने लगी।

 यहां तक कि आईजी भी इस पथराव में घायल हो गए। उपद्रवियों द्वारा पथराव करने के बाद बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर मंगा ली गई। पुलिस ने पथराव करने वालों को खदेड़ा तो वे गलियों में भाग गए। पुलिस जब गली में घुसी तो छत पर से महिलाओं और बच्चों के साथ पुरुषों ने भी पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। इसके अलावा लखनऊ, फिरोजाबाद और कानपुर जैसे शहरों में पुलिस बेहद सतर्क रही और इसके चलते किसी तरह का उपद्रव नहीं हो सका। यूपी के छह जिलों में पुलिस ने 109 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया है। यूपी के अलावा बंगाल के हावड़ा, झारखंड की राजधानी रांची में भी जमकर प्रदर्शन हुए हैं। रांची में तो नमाज के बाद हिंसक प्रदर्शन हुआ। आगजनी और पथराव के चलते पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी। इस फायरिंग में 35 साल के व्यक्ति की मौत हो गई। सात अन्य लोगों को गोली लगी है।

 प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। एसपी समेत कई पुलिस अफसरों को चोटें आई हैं। रांची में मौजूद बिहार सरकार के मंत्री नितिन नवीन की गाड़ी पर भी उपद्रवियों ने हमला कर दिया। वह भाजपा कोटे से नीतीश सरकार में मंत्री हैं। पत्थरबाजी के दौरान कुछ लोगों ने महावीर मंदिर में छिपने की कोशिश की। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने मंदिर पर भी पथराव कर दिया। इस घटना से हिंदू संगठनों का गुस्सा भी भड़क गया और वे सड़कों पर उतर आए। रांची में ऐहतियातन धारा 144 लागू कर दी गई। पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिला में उपद्रवियों ने पुलिस थाना और गाड़ी जला दी, रेल यातायात ठप कर दिया, जबकि भाजपा दफ्तर को तबाह कर दिया।  उधर, तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद स्थित मक्का मस्जिद के बाहर भारी संख्या में लोग जमा हुए और भाजपा की निलंबित नेता नूपुर शर्मा के खिलाफ  नारेबाजी की।