जम्मू-कश्मीर : पुलिस-सेना कैंप में नहीं लाए जाएंगे दूसरे राज्यों के लोग, आईजी ने एडवाइजरी को बताया फर्जी

File Photo

कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने उस एडवाइजरी को फर्जी बताया है जिसमें घाटी में खौफ के नाम पर दूसरे राज्यों के लोगों के पुलिस और सेना कैंप में जाने की सलाह दी गई है। आईजी ने एक ट्वीट जारी करके स्थिति स्पष्ट की है।

दक्षिणी कश्मीर में रविवार को दूसरे दिन भी आतंकियों ने टारगेट किलिंग करते हुए दो और मजदूरों को मार डाला। एक अन्य घायल है। सभी मजदूर बिहार के रहने वाले हैं। घटना के बाद पूरे इलाके में तलाशी अभियान चलाया गया, लेकिन आतंकियों का पता नहीं चला। आतंकियों ने 24 घंटे में दूसरी टारगेट किलिंग की वारदात को अंजाम दिया है। एक दिन पहले आतंकियों ने श्रीनगर में बिहार निवासी गोलगप्पे वाले अरविंद कुमार साह व उत्तर प्रदेश के सहारनपुर निवासी सगीर की हत्या कर दी थी। इस महीने अब तक आतंकियों ने आठ सिख तथा हिंदुओं की हत्या कर दी है।

पुलिस ने बताया कि मारे गए मजदूरों की शिनाख्त राजा रेशी देव व जोगिंदर रेशी के रूप में हुई है। तीसरे घायल चुनचुन रेशी दास का जीएमसी अनंतनाग में इलाज चल रहा है। बताते हैं कि बिहार के कई मजदूर कुलगाम के वानपोह इलाके में किराए के कमरे में रहते हैं। रविवार की शाम आतंकियों ने पहुंचकर वहां फायरिंग की जिसमें तीन मजदूर गंभीर रूप से जख्मी हो गए। तीनों को साथी मजदूरों ने तत्काल अस्पताल पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने राजा और जोगिंदर को मृत घोषित कर दिया। तीसरे जख्मी चुनचुन की हालत गंभीर बताई जा रही है।

घटना की जानकारी लगते ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का एलान किया है। उन्होंने घटना की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों की मदद करने का एलान किया। उन्होंने देर शाम जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा से फोन पर बात भी की और बिहार के लोगों की हो रही हत्या पर चिंता व्यक्त की।

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस तथा अन्य सुरक्षा एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर घटना की जानकारी हासिल की। साथ ही पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया गया। हालांकि, देर रात तक आतंकियों का कोई सुराग हाथ नहीं लगा था। ज्ञात हो कि आतंकियों ने इससे पहले कश्मीरी पंडित दवा कारोबारी मक्खन लाल बिंदरू, बिहार के गोलगप्पे वाले वीरेंद्र पासवान, सिख शिक्षक सतिंदर कौर व जम्मू निवासी शिक्षक दीपक चंद की गोली मारकर हत्या कर दी थी। गत शनिवार 16 अक्तूबर को दो और नागरिकों को आतंकियों ने मार डाला था।