मुफ्त कानूनी सहायता का लाभ उठाएं जरूरतमंद: न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान

देश की आजादी के 75वें वर्ष और राष्ट्रीय विधिक सेवाएं प्राधिकरण (नालसा) के 25वें वर्ष के उपलक्ष्य पर दो अक्तूबर से 14 नवंबर तक आयोजित किए जा रहे नालसा के देशव्यापी विशेष जागरूकता अभियान के तहत जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण ने बुधवार को राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के निर्देशानुसार हमीरपुर के टाउन हॉल में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया। शिविर की अध्यक्षता राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष एवं हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायधीश न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान ने की। इस अवसर पर शिविर के प्रतिभागियों के साथ सीधा संवाद करते हुए न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान ने बताया कि गरीब और असहाय लोगों को नि:शुल्क एवं सक्षम कानूनी सहायता प्रदान करने के लिए नालसा ने एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण योजना आरंभ की है।

पात्र लोगों को इस कानूनी सहायता योजना का लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों-कर्मचारियों, पंचायतीराज संस्थाओं और स्वयंसेवी संस्थाओं के पदाधिकारियों से कहा कि वे जरूरतमंद लोगों को मुफ्त कानूनी सहायता योजना की जानकारी दें, ताकि ऐसे लोग इसका लाभ उठा सकें। कार्यक्रम के दौरान न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान ने प्रतिभागियों की कई शंकाओं का समाधान किया तथा उनके कई प्रश्नों के उत्तर दिए। इससे पहले जिला एवं सत्र न्यायधीश और जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के अध्यक्ष जेके शर्मा ने न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान, अन्य अतिथियों तथा सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया तथा जिला में प्राधिकरण की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी। शिविर के दौरान राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के सदस्य सचिव पीपी रांटा, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायधीश नरेश कुमार, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी कांता वर्मा, राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के प्रशासनिक अधिकारी हितेंद्र शर्मा, न्यायिक दंडाधिकारी अद्घनता शर्मा, अन्य न्यायिक अधिकारी, एडीएम जितेंद्र सांजटा, एसडीएम डा. चिरंजी लाल चौहान, जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एससी चौहान और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।