लखीमपुर खीरी में छह किसानों की मौत के हत्यारों को मिले सजा: मुसाफिर

सराहां उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या के मामले को लेकर प्रदेश कांग्रेस हिमाचल के उपाध्यक्ष एवं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष जी आर मुसाफिर ने कहा लखीमपुर खीरी में विरोध प्रदर्शन कर रहे निहत्थे किसानों पर मंत्री के बेटे ने गाड़ी चला दी तथा किसानों को रौंद दिया, जिससे छह किसानों की मौत हो गई। उन्होंने कहा किसानों की बर्बर हत्या के मामले में केंद्रीय राज्य गृह मंत्री के बेटे अभिषेक के खिलाफ तुरंत हत्या का मुकद्दमा दर्ज कर उस पर कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा दोषी को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए

उन्होंने कहा इससे पहले केंद्रीय मंत्री भी लोगों को उकसाने और संप्रदाय द्वेष फैलाने का कार्य कर चुके हैं तथा उन्हें भी केंद्रीय मंत्री पद से बर्खास्त किया जाए। मुसाफिर ने कहा केंद्रीय सरकार के मंत्रियों की नजर में किसानों की जान की कोई कीमत नहीं है। किसान महीनों से अपने हकों की लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन किसानों की आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री के बेटे ने किसानों पर गाड़ी चला दी और छ:लोगों की हत्या कर दी गई और अभी तक उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है साथ में कई जगह नेटवर्क भी बंद कर दिया गया ताकि इस वीडियो को सोशल मीडिया पर ज्यादा वायरल होने से रोका जाए जी आर मुसाफिर ने कहा कि इस मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एक एसआइटी गठित होनी चाहिए। जिसके द्वारा निष्पक्ष जांच करवाई जाए तथा दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

मुसाफिर ने कहा कि इस मामले में केंद्रीय राज्य गृह मंत्री के दबाव में पुलिस उचित कार्रवाई नहीं कर रही है, जोकि किसानों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ है तथा इसे हरगिज भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों के साथ है तथा छह किसानों की हत्या करने के आरोपित को सजा दिलवाकर ही छोड़ेगी। उन्होंने कहा कि किसानों की आवाज को दबाने नहीं दिया जाएगा।
उन्होंने कहा कि जिस तरह प्रियंका गांधी को अनैतिक तरीके से पुलिस हिरासत में लिया गया है हम उसकी भी कड़ी निंदा करते है और ये सब केंद्र सरकार के इशारे पर हो रहा है और जिस तरह की ये घटनाएं हो रही इससे लगता है कि देश मे लोकतंत्र को खत्म किया जा रहा है और तानाशाही की जा रही है