मुंबई: भगोड़े व्यवसायी विजय माल्या का किंगफिशर हाउस 52.25 करोड़ में बिका

मुंबई के विले पार्ले में व्यवसायी विजय माल्या के किंगफिशर हाउस को अंततः नौवें प्रयास में हैदराबाद स्थित सैटर्न रियल्टर्स को 52.25 करोड़ रुपए में बेच दिया गया। किंगफिशर हाउस कभी माल्या के स्वामित्व वाली अब बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस का मुख्यालय था। माल्य पर लगभग 9,000 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी और मनी लांड्रिंग का आरोप है। सैटर्न रियल्टर्स ने इस सौदे के लिए महाराष्ट्र सरकार को 2.612 करोड़ रुपए की स्टैंप ड्यूटी अदा की है। यह सौदा पिछले महीने 31 जुलाई को रजिस्टर किया गया था।

मुंबई हवाई अड्डे के बाहर 2401.70 वर्ग मीटर की यह संपत्ति 2016 में अटैच की गई थी। ऋण वसूली न्यायाधिकरण, बंगलूर ने पिछले आठ प्रयासों में विफल होने के बाद इस घर को बेच दिया। रियल एस्टेट रिसर्च फर्म लियासेज फोरास के प्रबंध निदेशक पंकज कपूर ने दरों में कमी के लिए इसके स्थान और बाजार की स्थिति को जिम्मेदार ठहराया। कपूर ने कहा कि ऊंचाई प्रतिबंधों के कारण इस भूखंड में बहुत अधिक विकास की संभावना नहीं है, क्योंकि यह हवाई अड्डे के करीब है। इसके अलावा, बाजार की स्थिति खराब है। वित्तीय संकट में फंसने के बाद 20 अक्तूबर, 2012 को किंगफिशर एयरलाइंस को बंद कर दिया गया था। माल्या पर किंगफिशर एयरलाइंस से जुड़े धोखाधड़ी और मनी लांड्रिंग का आरोप है और उन्हें ऋणों में चूक करने और बैंकों को कथित रूप से धोखा देने के लिए भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया गया था।