छह से आठ हफ्तों के बीच देश में आ सकती कोरोना की तीसरी लहर : डा. रणदीप गुलेरिया

कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी इसको लेकर एम्स के डायरेक्टर डा. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि अगले छह से आठ हफ्तों के बीच देश में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। साथ ही डाक्टर गुलेरिया ने इस बात के भी संकेत दिए हैं कि तीसरी लहर से बचा नहीं जा सकता है।

लॉकडाउन में छूट के बाद लोगों की लापरवाही और भीड़ को लेकर भी हेल्थ एक्सपर्ट समय से पूर्व तीसरी लहर की चेतावनी दे रहे हैं। डाक्टर गुलेरिया ने कहा है कि लॉकडाउन को लेकर देश के कई राज्यों में ढील दी गई है। इस छूट के बाद लोगों की जो लापरवाही दिख रही है, उसको देखकर ऐसा नहीं लग रहा है कि हमने कोरोना की पहली और दूसरी लहर से कुछ सीखा है। दोबारा से भीड़ जुटनी शुरू हो गई है। कोरोना की तीसरी लहर छह से आठ सप्ताह में दस्तक दे सकती है या इसमें थोड़ा और वक्त लग सकता है, लेकिन यह सब लोगों पर निर्भर करेगा कि वे किस प्रकार से कोरोना को देखते हुए सावधानी बरत रहे हैं।

ब्रिटेन में तीसरी लहर

लंदन। दुनियाभर में सबसे पहले कोविड वैक्सीनेशन शुरू करने वाले ब्रिटेन में कोरोना की तीसरी लहर ने तबाही मचाई हुई है। यहां पिछले 24 घंटे में ब्रिटेन में 10000 से ज्यादा कोरोना वायरस के नए मामले मिले हैं।

केंद्र की सलाह, फूंक फूंककर रखें कदम

नई दिल्ली। देश में कोरोना की दूसरी लहर मंद पड़ रही है। इस बीच केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से कहा है कि वे अनलॉक को लेकर सावधानी से जमीनी हालात का आकलन करके फैसला लें। फूंक-फूंककर कदम उठाएं। व्यवस्थित ढंग से पाबंदियों में छूट दें और वैक्सीनेशन को बढ़ाएं। केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा कि लॉकडाउन खोलते समय कोविड एप्रोप्रिएट बिहैवियर, जांच-निगरानी-इलाज, टीकाकरण जैसी ‘अति महत्त्वपूर्ण’ पांच रणनीतियां अपनाएं।