सराहां के डेडिकेटिड कोविड अस्पताल में नारग क्षेत्र की कोरोना संक्रमित महिला ने दिया नवजात को जन्म

सराहां :  सराहां के डेडिकेटिड कोविड अस्पताल में नारग क्षेत्र की कोरोना संक्रमित महिला ने दिया नवजात को जन्म।संभावित खतरे को भांपते हुए बीएमओ पच्छाद डॉ संदीप शर्मा ने अपनी टीम के साथ डिलीवरी की निर्धारित तिथि से सात दिन पहले ही करवाई सफलता पूर्वक डिलीवरी।

सराहा डेडिकेटिड कोविड अस्पताल में पच्छाद के नारग चोंरी गांव की एक संक्रमित महिला ने एक नवजात को जन्म दिया है। बीएमओ पच्छाद डॉ सन्दीप शर्मा ने इसके लिए कोविड अस्पताल में ड्यूटी कर रहे पूरे स्टाफ को इसके लिए उनकी सराहना करते हुए कोविड अस्पताल में ड्यूटी कर रहे सभी डॉक्टर व उनके स्टाफ को बधाई भी दी। उन्होंने बताया कि जब जब गर्ववती मिला अस्पताल आई थी उस समय उन्हें कोरोना के लक्षण थे और तबियत काफी खराब थी जिस पर उन्हें अस्पताल में ही आइसोलेट करके उनका आर टी पी सी आर टेस्ट कराया गया जिसके बाद गर्ववती महिला कोरोना संक्रमित पाई गई जिन्हें कोविड अस्पताल में शिफ्ट करवा दिया गया।

जहाँ पर उनका इलाज शुरू किया गया साथ ही उन्हें निगरानी में भी रखा गया बीएमओ पच्छाद ने बताया कि कोरोना के इलाज के दौरान ही कोविड अस्पताल में सबसे पहले उन्हें मानसिक रूप से प्रसव के लिये पूरी टीम ने उत्साहित किया और प्रसव की तारीख से 7 दिन पूर्व ही उनकी नॉर्मल डिलीवरी भी करवाई गई । जिसके बाद उन्हें होम आइसोलेशन के लिए उन्हें घर भेज दिया गया है। जिसके लिए कोविड अस्पताल में कार्य कर रहे डॉक्टर व उनकी टीम को बधाई व शुभकामनाएं दी ।गोर तलब है कि डेडिकेटेड कोविड अस्पताल सराहां में अभी तक 467 मरीज भर्ती हुए जिनमे से 450 मरीज ठीक होकर खुशी खुशी अपने घर गये जबकि विभिन्न जगहों से आय 17 मरीज कॅरोना से जंग हार गये।

गोरतलब है कि कॅरोना से जंग हारने वाले केवल वही मरीज थे जिनकी स्थिति बहुत नाजुक थी और उन्हें अंत समय मे ही अस्पताल पहुंचाया गया।इस समय इस अस्पताल में पूरा स्टाफ मौजूद है जो 8 घंटे की ड्यूटी प्रतिदिन दे रहा है।यहाँ पर तैनात स्टाफ 10 दिनों के लिये तैनात होता है।उसके उपरांत स्टाफ बदल दिया जाता है।इस डेडिकैरेड अस्पताल में डॉक्टर व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के साथ 3 स्टाफ नर्स जिनमे से 2 नर्सिंग फाइनल ईयर की छात्राएं है हर समय ड्यूटी पर रहती है।यहाँ पर यदि मरीज को अटेंडेंट की आवश्यकता है तो वो अपने किसी परिजन को अपने साथ रख सकता है परंतु उसे कोविड नियमो का सख्ती से पालन करना पड़ता है।वही मरीजो के साथ साथ तीमारदारों की भी कुछ दानी सज्जनो द्वारा खाने पीने की व्यवस्था की जाती है।वही कोविड अस्पताल के अंदर की गतिविधियों पर नजर रखने के लिये यहाँ सीसीटीवी कैमरे भी लगवाए गये हैं ।