इस संकट की घड़ी में कांग्रेस के नेता अपनी राजनीति चमकाने का कार्य कर रहे हैं: त्रिलोक जम्वाल

शिमला:  भाजपा प्रदेश महामंत्री एवं मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार त्रिलोक जम्वाल ने कहा कि जिस प्रकार से कल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और उनके साथ तीन अन्य लोगों ने शिमला के रिज मैदान पर बैठकर धरना प्रदर्शन किया वह सही नहीं था, हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि भगवान कांग्रेस के नेताओं को इस संकट की घड़ी में सद्बुद्धि प्रदान करे ।
उन्होंने कहा इस संकट की घड़ी में जहां पूरे देश में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सेवा ही संगठन भाग-2 के अंतर्गत जन सेवा में लगे है वहीं कांग्रेस के यह नेता अपनी राजनीति चमकाने का कार्य कर रहे हैं परंतु अगर यह नेता फील्ड में कार्य कर जनता की सेवा कर रहे होते तो कोविड-19 से जिस प्रकार एक युद्ध चल रहा है उस को बल मिलता।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता रोजाना बेबुनियाद बयानबाजी करके जनता के मन में एक भय का वातावरण पैदा कर रहे हैं और प्रदेश में जिस प्रकार से एक अच्छी व्यवस्था बनी है उसके बारे में जनता को भ्रमित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कांग्रेस के नेता केवल पब्लिसिटी पाने की प्रतिस्पर्धा के अंतर्गत कार्य कर रहे है और धरातल पर कोई कार्य नहीं कर रहे हैं वहीं भाजपा के कार्यकर्ता सेवा ही संगठन के मूल मंत्र को आधारशिला बना कर घर घर जाकर कोरोना संक्रमितों से संपर्क कर रहे हैं, खाने के पैकेट पहुंचा रहे हैं, फेसशील्ड एवं सेनिटेशन वितरण कर रहे हैं।

उन्होंने कहा हिमाचल प्रदेश में जयराम ठाकुर सरकार कोविड-19 महामारी को लेकर अच्छा कार्य कर रही है, हिमाचल प्रदेश में किसी भी प्रकार की कमी नहीं है चाहे वह ऑक्सीजन बेड या आईसीयू बेड हो, प्रदेश में ऑक्सीजन भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है केंद्र ने हाल ही में हिमाचल का कोटा बढ़ाकर 50 एमटी किया है। सभी जिलों एवं मेडिकल कॉलेजों में ऑक्सीजन प्लांट बनाकर ऑक्सीजन की कमी को दूर किया गया है। मुख्यमंत्री स्वयं जनता से फीडबैक ले रहे हैं और रोजाना कोविड-19 की परिस्थितियों पर नजर बनाए रखे हैं और जरूर के हिसाब से जनहित में निर्णय ले रहे हैं। उन्हें कहा केंद्रीय और प्रदेश में अच्छा तालमेल है जिससे कोरोना से संबंधित उपकरणों व ज़रूरत की व्यवस्थाओं को लेकर किसी भी प्रकार की कमी प्रदेश में नहीं है। उन्होंने कहा  कांग्रेसी नेताओं द्वारा जो भी आरोप लगाए जा रहे हैं वह बेबुनियाद एवं निराधार है। कांग्रेस को इस संकट की घड़ी में इस प्रकार की नकारात्मक राजनीति नहीं करनी चाहिए।