कोरोना संक्रमण: सिरमौर प्रशासन के सख्त कदम, बैरियर से वापस भेजी 25 गाड़ियां

पांवटा साहिब: कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए सिरमौर प्रशासन ने सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। बाहरी राज्यों से सिरमौर की ओर आ रहे लोगों को बिना पंजीकरण प्रवेश नहीं दिया जा रहा। बिना पंजीकरण के आ रहे लोगों को सीमा पर लगाए गए नाकों से वापस भेजा जा रहा है। सोमवार को भी पांवटा से सटे बहराल और गोविंदघाट बैरियर से 25 गाड़ियां वापस भेजी गई।

सिरमौर जिला हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सीमाओं से सटा है। विभिन्न रास्तों से जिले में लोग प्रवेश करते हैं लेकिन पुलिस ने भी मुस्तैदी दिखाते हुए कुल 18 जगहों पर नाके लगाकर पुलिस चौकी स्थापित कर दी है। मीनस, जोंग, किल्लौड़, खोदरी माजरी, यमुनाब्रीज, बहराल, पल्होड़ी, लोहगढ़, हरिपुर खोल, सुकेती रोड कालाअंब, कालाअंब चौक, नजद रूचिरा फैक्ट्री त्रिलोकपुर मार्ग, नजद साबू सिलिंडर फैक्ट्री त्रिलोकपुर मार्ग, उज्जल माजरी, भांगवाली, कौलांवालाभूड़, धमेशा एवं महल प्रीतनगर में लगाए गए नाकों में 24 घंटे निगरानी रखी जा रही है। हालांकि, अधिकतर लोगों की आवाजाही पांवटा साहिब के बहराल, यमुनाघाट और कालाअंब चौक बैरियर से होकर है। लिहाजा, इन स्थानों पर खास प्रबंध किए गए हैं। सभी बैरियरों में पंजीकरण दिखाने के बाद ही प्रवेश करने दिया जा रहा है।

सोमवार को शाम पांच बजे तक गोविंदघाट बैरियर से 378 और बहराल बैरियर से 186 लोग सिरमौर में दाखिल हुए। हालांकि, इस दौरान कोरोना के लिए बनाए गए नियम पूरे नहीं होने पर 25 गाड़ियों को वापस भेजा गया। एसपी खुशहाल शर्मा ने बताया कि नाकों पर पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। बिना पंजीकरण के किसी को आने नहीं दिया जा रहा।