मेलाराम शर्मा ने स्थानीय महिलाओं के लिए हिमईरा दुकान का किया उद्घाटन

 सिरमौर जिला के संगड़ाह विकासखंड परिसर में पंचायत समिति सगड़ाह के अध्यक्ष मेलाराम शर्मा ने स्थानीय महिलाओं के लिए हिमईरा दुकान का उद्घाटन किया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत खोली गई इस दुकान में संगड़ाह विकासखंड के विभिन्न पंचायतों में महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए उत्पाद बेचे जाएंगे। इस अवसर पर श्री मेलाराम शर्मा ने बताया की संगड़ाह विकास खंड के ग्रामीण क्षेत्रों में अभी तक राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 152 महिला स्वयं सहायता समूह पंजीकृत किए जा चुके हैं और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत विभिन्न ग्राम पंचायतों में और अधिक महिला समूह गठित करके पंजीकरण करवाया जाएगा।

उन्होंने बताया की राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत ग्रामीण क्षेत्रों विशेषकर गिरी पहाड़ जैसे पिछड़े इलाके में महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़कर उन्हें स्वावलंबी बनाने के प्रयास किए जाएंगे पंचायत समिति अध्यक्ष ने बताया कि समिति की पहली बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि विकासखंड की महिलाओं द्वारा तैयार किए जाने वाले उत्पादों की बिक्री के लिए संगड़ाह विकासखंड परिसर में बनाई गई दुकानों में से एक दुकान हिमईरा के लिए निशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।

इस अवसर पर बोलते हुए सगड़ाह के विकास खंड अधिकारी सुभाष अत्री ने बताया कि हिमईरा कि इस दुकान में पहले दिन ही ग्राम पंचायत घंडूरी, सेंज, देवना, सेर तंदूला, भवाई, अंधेरी और लुधियाना पंचायतों से लगभग डेढ़ दर्जन महिला समूहों के उत्पाद बिक्री के लिए लाए गए हैं। महिलाओं द्वारा तैयार किए गए उत्पादों में बुरास का स्क्वैश, चटनी, विभिन्न प्रकार की सूखी सब्जियां, देसी गाय का घी, सत्तू, जौ और मडुवे का आटा, विभिन्न प्रकार की ऑर्गेनिक दालें और महिलाओं द्वारा तैयार किया गया कढ़ाई बुनाई का सामान उपलब्ध है। खंड विकास अधिकारी ने बताया की विकासखंड के नोहराधार, हरिपुरधार और अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में भी विकासखंड द्वारा महिलाओं के लिए दुकानों का निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि महिलाओं द्वारा तैयार किए गए उत्पादों की प्रदर्शनीयां जिले के विभिन्न क्षेत्रों में आयोजित होने वाले मेलों के दौरान भी लगवाई जाएगी ताकि क्षेत्र की महिलाओं को अपने उत्पादों की बिक्री के लिए उचित मंच प्राप्त हो सके।

गौरतलब है कि ग्रामीण महिलाओं द्वारा तैयार किए जा रहे घरेलू उत्पादों की बिक्री के लिए अभी तक अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था परंतु इस प्रकार की दुकान खुलने से अब महिलाओं को मार्केटिंग की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।