हिमाचल : कोरोना से ग्रसित मरीज घर में ही होंगे आइसोलेट

राज्य में कोरोना से ग्रसित मरीज घर में ही आइसोलेट होंगे। आशा वर्कर, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इनका हाल पूछती रहेंगी, जबकि जिला प्रशासन की ओर से भी मरीजों से संपर्क रखा जाएगा, ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें सहायता मुहैया करवाई जा सके। इसके अलावा गंभीर रूप से घायल मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया जा सकेगा। कोरोना वार्ड में स्पेशलिस्ट डाक्टर ही मरीजों को सेवाएं देते रहेंगे। मेडिकल कालेज और जिला अस्पतालों में पहले की तरह मरीजों का ओपीडी में चैकअप होता रहेगा। रूटीन के ऑपरेशन भी चलते रहेंगे। प्रदेश सरकार ने मेडिकल कालेज के प्रिंसीपल और जिला चिकित्सा अधिकारी को यह निर्देश दिए हैं। लोगों को कोरोना से सतर्क रहने को कहा गया है। हिमाचल में बीते एक सप्ताह से कोरोना ने कहर बरपाया है।

 प्रतिदिन 300 से अधिक मामले आ रहे हैं। दो से तीन लोगों की प्रतिदिन इस बीमारी से मौत हो रही है। मौत का आंकड़ा भी 1022 के करीब पहुंच गया है। स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल कालेज प्रशासन और जिला चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए हैं कि वे वार्डों को लगातार सेनेटाइज करते रहें। बिना मास्क के अस्पताल में एंट्री न करने की बात कही गई है। उधर, स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने बताया कि अस्पतालों में ओपीडी और ऑपरेशन चलते रहेंगे। बीमारी को लेकर अस्पताल प्रशासन को सतर्क रहने को कहा है।