हिमाचल: जंगलों में आग की बढ़ती घटनाओं को लेकर फील्ड स्टाफ की छुट्टियों पर रोक

हिमाचल प्रदेश वन विभाग ने एक अप्रैल से फील्ड स्टाफ की छुट्टियों पर रोक लगा दी है। जंगलों में आग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए विभाग ने यह फैसला लिया है। हर साल 15 अप्रैल से छुट्टियों पर रोक लगाई जाती है। इस बार 15 दिन पहले से छुट्टियों पर रोक रहेगी। वन रक्षक, ब्लॉक ऑफिसर और रेंज ऑफिसर बहुत जरूरी होने पर ही अवकाश ले सकेंगे। वन विभाग के फील्ड स्टाफ की छुट्टियों पर यह रोक मानसून आने तक जारी रहेगी।

वन मंडलाधिकारी डॉ. संजीव शर्मा ने बताया कि जंगलों को आग से बचाने के लिए विभाग पूरी तरह से तैयार है। इसके अलावा स्थानीय लोगों का इस कार्य में सहयोग अपेक्षित रहेगा। विभाग ने ब्लॉक स्तर पर जंगलों में आग की घटनाओं से निपटने के लिए टीमों का गठन कर लिया है। मंडल स्तर पर गठित टीमों के लिए अधीक्षक को नोडल अधिकारी बनाया गया है। हर सर्कल में फायर कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं।

सरोतरी और सेरा थाना में आग की सूचना
वन मंडलाधिकारी ने बताया कि शुक्रवार को धर्मशाला मंडल के सरोतरी और सेरा थाना ब्लॉक में सेटेलाइट के माध्यम से आग लगने की सूचना मिली है। इसकी जांच और नियंत्रण के लिए वन विभाग की टीमों को तुरंत रवाना कर दिया गया है।

पर्यटकों के लिए खुला त्रियुंड ट्रैक
पर्यटन स्थल के तौर पर उभरे त्रियुंड ट्रैक को वन विभाग की ओर से खोल दिया गया है। सर्दियों में बर्फबारी के बाद सुरक्षा कारणों से वन विभाग ने इस पर रोक लगा दी थी। अब पर्यटक गलू चैक पोस्ट में पंजीकरण करवाने के बाद ट्रैकिंग का आनंद ले सकेंगे।