हिमाचल: निजी स्कूलों के नए सिरे से विधेयक का ड्राफ्ट तैयार करने केशिक्षा विभाग को दिये निर्देश

शिमला:  हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में सरकार निजी स्कूलों (Private School’s) दबाव के आगे नतमस्तक हो गई है. सोमवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में हिमाचल मंत्रिमंडल (Himachal Cabinet Meeting) ने निजी स्कूल फीस (School Fee) नियंत्रण विधेयक को वापस लेते हुए शिक्षा विभाग को नए सिरे से विधेयक का ड्राफ्ट तैयार करने के निर्देश दिये गय़े हैं. बता दें कि कैबिनेट में बिल को मंजूरी मिल जाती तो बजट सत्र में इसे पेश किया जाना था. 19 मार्च को प्रस्तावित कैबिनेट बैठक में भी इस बिल को लेकर चर्चा पर संशय है. वैसे भी बजट सत्र 20 मार्च को खत्म होने जा रहा है और ऐसे में मामला ठंडे बस्ते में चला जाएगा.

सोमवार देर शाम विधानसभा परिसर में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर(CM Jairam Thakur) की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक हुई. बैठक में फीस नियंत्रण विधेयक पर चर्चा हुई. कुछ मंत्रियों ने इस प्रस्ताव के कई बिंदुओं पर आपत्ति जताते हुए कमियों को दूर करने की वकालत की. बाद में प्रस्ताव प्रस्ताव वापस ले लिया गया. ऐसे में नए शैक्षणिक सत्र से निजी स्कूलों की फीस पर अंकुश की आस लगाए बैठे अभिभावकों को बड़ा झटका लगा है.

बैठक में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चर्चा
कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच तीन दिन बाद 19 मार्च को फिर कैबिनेट की बैठक प्रस्तावित है. सोमवार को हुई बैठक में करीब पौने घंटे तक स्वास्थ्य सचिव ने कोरोना पर प्रस्तुति दी. प्रदेश में करीब 15 दिन से मामले बढ़ रहे हैं. लोग बिना मास्क घूम रहे हैं. सामाजिक दूरी की धज्जियां उड़ रही हैं. मेले, रैलियों में उमड़ रही भीड़, शिक्षण संस्थानों का खुलना, बसों में ओवरलोडिंग खतरनाक हो सकती है. इसमें बंदिशें लगाने की सिफारिश की गई है. पुलिस और स्वास्थ्य विभाग को भी कोविड-19 के नियमों को सख्ती से लागू करने के लिए कहा गया है.