हिमाचल: शीतकालीन छुट्टियों वाले सरकारी स्कूलों में भी नियमित कक्षाएं लगना शुरू

हिमाचल प्रदेश में सोमवार से शीतकालीन छुट्टियों वाले सरकारी स्कूलों में भी विद्यार्थियों की नियमित कक्षाएं लगना शुरू हो जाएंगी। पूरे प्रदेश में पांचवीं से बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों की अब स्कूलों में कक्षाएं लगेंगी। ग्रीष्मकालीन छुट्टियों वाले स्कूलों में एक फरवरी से पांचवीं और आठवीं से बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों को स्कूलों में बुलाया गया है। अब 15 फरवरी से छठी और सातवीं के विद्यार्थियों के लिए भी स्कूल खोल दिए गए हैं। पहली से चौथी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए फिलहाल स्कूल नहीं खुलेंगे।

इनकी पहले की तरह ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी। उधर, सोमवार से निर्धारित एसओपी के तहत शीतकालीन जिलों में स्कूलों को खोलने के निर्देश जारी हो गए हैं। इस दौरान विद्यार्थियों की हाजिरी की अनिवार्यता नहीं रहेगी। विद्यार्थियों पर स्कूल आने का दबाव भी नहीं डाला जाएगा। इन कक्षाओं की ऑनलाइन पढ़ाई भी जारी रहेगी। उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा ने बताया कि सभी स्कूलों को सैनिटाइज कर दिया गया है। सोमवार से शीतकालीन जिलों के स्कूलों में भी नियमित कक्षाएं लगेंगी।

निजी स्कूल प्रबंधक भी अब पांचवीं से बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोल सकते हैं। शिक्षण संस्थानों में फेस मास्क पहनना और दो गज की दूरी को अनिवार्य किया गया है। शिक्षण संस्थानों में एसओपी को नोटिस बोर्ड पर भी लगाने के निर्देश दिए गए हैं। स्कूलों में अभी प्रार्थना सभा नहीं होगी।
थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही परिसर में शिक्षकों और विद्यार्थियों को प्रवेश मिलेगा। खेलकूद गतिविधियों पर भी रोक लगाई है। विद्यार्थियों की अधिक संख्या वाले स्कूलों में एक दिन छोड़कर कक्षाएं लगाई जा सकती हैं। स्कूल प्रिंसिपल माइक्रो प्लान के तहत तय करेंगे कि विद्यार्थियों के बीच उचित दूरी रखते हुए कक्षाएं किस प्रकार लगाई जाएंगी। लंच टाइम भी कक्षावार तय होगा। बच्चों के स्कूल आने-जाने के समय में भी दस से पंद्रह मिनट का अंतर रखने को कहा है।

31 मार्च तक स्कूलों में मिड-डे मील बनाने पर रोक लगाई गई है। शिक्षा निदेशक ने बताया कि पहले की तरह ऑनलाइन पढ़ाई भी जारी रहेगी। नॉन बोर्ड कक्षाओं का 31 मार्च को परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया जाएगा। एक अप्रैल 2021 से सभी स्कूलों में नया शैक्षणिक सत्र शुरू होगा। स्कूल खुलने पर पहले एक माह के दौरान पुरानी कक्षा के पाठ्यक्रम की रिवीजन करवाई जाएगी।

खांसी, बुखार, जुकाम के लक्षण वाले शिक्षक-विद्यार्थी स्कूल न आएं
शिमला। शिक्षा निदेशालय ने खांसी, बुखार और जुकाम के लक्षण वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों से स्कूलों में नहीं आने का आग्रह किया है। शिक्षकों को इस तरह के लक्षण पाए जाने पर स्वास्थ्य जांच करवाने को कहा गया है। विद्यार्थियों को भी एहतियात बरतने को कहा गया है।

कोरोना संक्रमित मिलने पर 48 घंटे बंद रखा जाएगा स्कूल
शिमला। स्कूलों में कोरोना संक्रमित शिक्षक या विद्यार्थी पाए जाने की स्थिति में परिसर को स्थानीय प्रशासन की मंजूरी लेकर 48 घंटे तक बंद रखा जाएगा। परिसर की सैनिटाइजेशन करवाने के बाद दोबारा से कक्षाओं को नियमित तौर पर शुरू किया जाएगा।

मंडी, ऊना जिले में सभी शिक्षकों के होंगे कोरोना टेस्ट
मंडी और ऊना जिले में सभी शिक्षकों के कोरोना टेस्ट अनिवार्य किए गए हैं। दोनों जिलों के उपायुक्तों ने शिक्षकों की जांच करवाने का फैसला लिया है। मंडी जिले में बीते दिनों कई शिक्षकों के कोरोना संक्रमित पाए जाने पर जांच को अनिवार्य किया गया है।