पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए वीर जवानों को देश दे रहा है भावपूर्ण श्रद्धांजलि

जम्मू: दो साल पहले कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती हमले में शहीद 40 सीआरपीएफ के जवानों ने देश के लिए सर्वोच बलिदान दिया था. इस हमले के दो साल बाद जम्मू में सीआरपीएफ के जवानों ने अपने साथियों को श्रद्धांजलि दी. पुलवामा हमले की दूसरी बरसी पर जम्मू में सीआरपीएफ की 76 वीं बटालियन ने इन शहीदों को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी. इस हमले में सीआरपीएफ के 76 वें बटालियन के 5 जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी.

जम्मू में सीआरपीएफ के 76 वें बटालियन के मुख्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में अधिकारियों और जवानों ने पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि दी. इस बटालियन के सेकेंड इन कमांड अधिकारी कमल सिसोदिया ने बताया कि हमारे बटालियन के पांच जवानों ने शहादत दी थी.

उन्होंने कहा कि इन जवानों ने यह आहुति देश के लिए दिए थे. यह पूरे देश के शहीद हैं जिससे हर भारतवासी चैन की नींद सो सकें. वहीं, इसी बटालियन में कुछ ऐसे जवान भी हैं जिन्होंने इस हमले में अपने सबसे खास दोस्तों को खोया है. सेकेंड इन कमांड ने कहा कि वह जिंदगी भर 14 फरवरी 2019 की वह सुबह नहीं भूल सकते जब कायर पाकिस्तानी आतंकियों ने सीआरपीएफ की बस को निशाना बनाकर उनके साथियों को निशाना बनाया था. इन जवानों ने अपने साथी जवानों के कुछ अनुभव भी एबीपी न्यूज़ के साथ साझा किए. जहां जम्मू में सीआरपीएफ के 40 जवानों को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी गई वहीं यहां उनके साथियों की आंखों में इन शहीदों की शहादत पर गर्व था.

2 साल में जम्मू कश्मीर में 375 आतंकियों को मार गिराया

बता दें कि 14 फरवरी 2019 को कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. आज ही के दिन कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद के एक फिदायीन आतंकी दस्ते ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था. जिसके बाद भारत ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था.

हमले के बाद अतंकियों की सफाई के लिए जम्मू कश्मीर में जवानों ने मिलकर संयुक्त अभियान चलाया. सीआरपीएफ का दावा है कि इस अभियान में पिछले 2 साल में जम्मू कश्मीर में 375 आतंकियों को मार गिराया गया है.