कासगंज : पुलिस मुठभेड़ में एक आरोपी ढेर

कासगंज:  जनपद कासगंज में मंगलवार को शराब माफियाओं (Liquor Mafia) पर कार्रवाई करने गई पुलिस पर बदमाशों ने हमला कर दिया था. इसमें एक सिपाही की बदमाशों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी तो वहीं एक दारोगा गंभीर रूप से घायल हो गया. इसके बाद एक्शन में आई पुलिस ने बुधवार तड़के एक एनकाउंटर में इस हत्‍याकांड के मुख्य आरोपी मोती के भाई एलकार सिंह को मार गिराया, जबकि अन्य की तलाश में लगातार दबिश दी जा रही है. मारा गया बदमाश एलकार सिंह भी हिस्ट्रीशीटर है और वह जेल भी जा चुका है.

बता दें कि पूरी घटना सिढ़पुरा थाना क्षेत्र के गांव नगला धीमर की है, जहां दारोगा अशोक पाल और सिपाही देवेंद्र शराब माफियाओं पर कार्रवाई करने के लिए गांव पहुंचे थे. गांव पहुंचते ही शराब माफियाओं ने पुलिस पर हमला कर दिया और उन्हें बंधक बना लिया. बदमाशों ने सिपाही को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया. वहीं, दारोगा की बेरहमी से पिटाई की गई. इस पूरे मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है. बिकरु कांड से सबक न लेते हुए चंद पुलिसकर्मी ही अवैध शराब माफियाओं पर कार्रवाई करने पहुंच गई थी. मामले की जानकारी जब आलाधिकारियों को मिली तो वे भी घटनास्थल पहुंचे. काफी खोजबीन के बाद दारोगा निर्वस्‍त्र और लहूलुहान हालत में गांव से डेढ़ किलोमीटर दूर खेत में पड़े मिले. वहीं, सिपाही का शव मौके से बरामद किया गया.

मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणा 
घटना के बाद एडीजी अजय आनंद और आईजी पीयूष मोर्डिया भी मौके पर पहुंचे. फिलहाल गंभीर रूप से घायल दारोगा अशोक को जिला अस्पताल से अलीगढ़ रेफर किया गया है, तो वहीं शहीद सिपाही के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. इस पूरी घटना का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोपियों पर एनएसए लगाने सहित कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए हैं. मृतक सिपाही के परिजनों को 50 लाख रुपये की आर्थिक मदद और एक परिजन को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की है.