विराट कोहली की गलती भारत को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल से करा सकती है बाहर

नई दिल्ली. भारत और इंग्लैंड के बीच चल रही चार टेस्ट मैचों की टेस्ट सीरीज दोनों ही टीमों के लिए बेहद अहम है. क्योंकि इस सीरीज का नतीजा वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (ICC World Test Championship) के फाइनल में पहुंचने वाली टीम को तय करेगा. न्यूजीलैंड की टीम फाइनल में जगह बना चुकी है अब दूसरी टीम की रेस में भारत-इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच टक्कर है. भारतीय टीम के पास टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने का अच्छा मौका है, लेकिन उसे इंग्लैंड से कम से कम 2 टेस्ट मैच जीतने होंगे और उसे सीरीज हरानी होगी. लेकिन चेन्नई टेस्ट में टीम इंडिया से एक ऐसी गलती हो गई है जो उसे बहुत भारी पड़ सकती है.

विजडन की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय टीम ने चेन्नई टेस्ट के चौथे दिन बेहद धीमी गति से ओवर फेंके. इसकी वजह से उसे वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के प्वाइंट्स भी कट सकते हैं. ठीक वैसे ही जैसे ऑस्ट्रेलिया के साथ हुआ था. टिम पेन की टीम ने भी यही गलती की थी और उसके अंक कट गए थे जिसकी वजह से न्यूजीलैंड के जीत प्रतिशत अंक उससे ज्यादा हो गए. भारतीय टीम ने चेन्नई टेस्ट में टी ब्रेक के बाद 90 मिनट में सिर्फ 19.3 ओवर फेंके. आईसीसी के नियमों के अनुसार टीम को एक घंटे में 15 ओवर फेंकने होते हैं और भारत का ओवर रेट इससे काफी ज्यादा कम रहा.

विराट कोहली को नहीं इसकी जानकारी?
चेन्नई टेस्ट के चौथे दिन टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का पूरा ध्यान इंग्लैंड को ज्यादा से ज्यादा बल्लेबाजी कराने पर रहा और शायद इसीलिए उसका ओवर रेट बेहद धीमा रहा. लेकिन विराट कोहली की ये रणनीति आगे जाकर टीम इंडिया को भारी पड़ सकती है.

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल का गणित
टीम इंडिया को अगर वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचना है तो उसे चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 2 मुकाबले जीतने होंगे. भारतीय टीम अगर 1-0 से भी जीतती है तो वह फाइनल की दौड़ से बाहर हो जाएगी. अगर भारत 2-1 से सीरीज जीते तो भी वो फाइनल में पहुंच जाएगा. दूसरी ओर अगर इंग्लैंड 1-0, 2-0 या 2-1 से सीरीज जीत हासिल करता है तो ऑस्ट्रेलिया वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच सकता है. वहीं इंग्लैंड को फाइनल में पहुंचने के लिए 3-0, 3-1, या 4-0 से सीरीज जीतनी होगी.