पंचायती राज मंत्री विरेन्द्र कंवर ने चौगान मैदान में ध्वजा रोहण कर भव्य परेड़ की ली सलामी

नाहन: 72वें गणतन्त्र दिवस पर नाहन में आयोजित जिला स्तरीय समारोह में बतौर मुख्यातिथि ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, पशु पालन व मत्स्य मंत्री विरेन्द्र कंवर ने ऐतिहासिक चौगान मैदान में ध्वजा रोहण कर परेड़ की सलामी ली।
इस परेड का नेतृत्व पुलिस उप निरीक्षक आशीष कौशल ने किया । इस परेड़ में एसआई यादेश की अगुवाई में जिला पुलिस की टुकड़ी, हैड कांन्स्टेबल बबीता के नेतृत्व में महिला पुलिस की टुकड़ी, एएसआई जशवन्त सिंह के नेतृत्व में 6वीं बटालियन की टुकड़ी, हैड कांन्स्टेबल राजदेवी के नेतृत्व में महिला 6वीं बटालियन की टुकड़ी, प्लाटून कमाण्डर संजीव कुमार के नेतृत्व में होम गार्ड की टुकड़ी, प्लाटून कमाण्डर सुनीता देवी के नेतृत्व में होम गार्ड महिला की टुकड़ी, एनसीसी कैडेट मोहित व रूचिका के नेतृत्व में एनसीसी की टुकड़ी तथा सेक्शन लीडर दीप चंद के नेतृत्व मंे होम गार्ड बैंड नाहन की टुकड़ी ने परेड़ मंे भाग लिया। इससे पूर्व मुख्यातिथि ने नाहन स्थित शहीद स्मारक पर पुष्प अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी ।

पंचायती राज मंत्री ने 72वें गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य पर लोगों को शुभकामनाए देते हुए कहा कि 26 जनवरी, 1950 को स्वतंत्र भारत देश ने अपने संविधान को अपनाया था, जिसके साथ भारत सही अर्थो में गणतंत्र बना । उन्होने कहा कि भारत का संविधान हमारे देश को एक प्रभुत्व सम्पन्न, समाजवादी, पथ निरपेक्ष, लोकतांत्रिक गणतंत्र घोषित करता है तथा सभी देश वासियों को बिना भेदभाव के विकास एवं उत्थान के समान अवसर प्रदान करता है। उन्होने लोगों से राष्ट्र की एकता व अखण्डता बनाए रखने का आहवान किया।
उन्हांेने बताया कि प्रदेश सरकार ने शहीद सैनिकों तथा भूतपूर्वक सैनिकों के परिवारों के लिए अनेक सुविधाएं प्रदान की है जिसमें परमवीर चक्र व अशोक चक्र विजेताओं की वार्षिकी को तीन लाख रूपये, महावीर चक्र व कीर्ति चक्र विजेताओं की वार्षिकी दो लाख रूपये, वीर चक्र व शोर्य चक्र विजेताओं की वार्षिकी को एक लाख रूपये किया है। प्रदेश सरकार ने अब युद्व अथवा अन्य सैन्य आपरेशन में शहीद सैनिकों के आश्रितों को 20 लाख रूपये तथा अपंग हुए सैनिकों को पंाच लाख रूपये तक की सहायता प्रदान की है।

उन्हांेने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा सिरमौर में डा. वाई.एस. परमार मेडिकल कॉलेज नाहन के नए भवन के निर्माण पर 261 करोड़ रूपये की राशि व्यय की जा रही है जिसका निर्माण कार्य प्रगति पर है तथा इस भवन के पूर्ण होने पर यहां अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधाएं प्रदान की जाएगी। जिला के धौलाकुआं में भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) स्थापित करने के लिए भी भारत सरकार द्वारा 600 करोड़ की राशि स्वीकृत की गई है। इस संस्थान के खुलने से जिला सिरमौर शिक्षा के क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय मानचित्र पर अपनी दस्तक दे चुका है।

जिला में 37 हजार 969 पात्र वृद्ध, विधवा और दिव्यांग व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पैंशन प्रदान की जा रही है। उन्हांेने बताया कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में जिला सिरमौर मंे एक अरब 48 करोड 7 लाख रूपये की राशि सामाजिक सुरक्षा पैंशन पर व्यय की जा चुकी है तथा इस अवधि के दौरान 14780 नए पात्र लाभार्थियों को समाजिक सुरक्षा पैंशन से लाभान्वित किया जा रहा है। इनमें 70 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 6277 वरिष्ठ नागरिक शामिल हैं। जिला में अनुसूचित जाति उप योजना के अतंर्गत गत वित्त वर्ष के दौरान 54 करोड़ रूपये से अधिक राशि विभिन्न विकास कार्यों पर व्यय की गई जबकि चालू वित्त वर्ष में माह सितम्बर, 2020 तक 12 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई है। चालू वित वर्ष में विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं पर दिसम्बर, 2020 तक लगभग 45 करोड रूपये की राशि व्यय हुई है।
उन्होंने कहा कि महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित की जा रही विभिन्न योजनाओं जिनमें मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, विधवा पुनर्विवाह योजना, मदर टैरेसा असहाय मातृ सम्बल योजना, बेटी है अनमोल योजना, के अतंर्गत अभी तक 1 करोड़ 65 लाख रूपये की राषि व्यय की जा चुकी है। जिला सिरमौर में चालू वित्त वर्ष के दौरान पेयजल तथा सिंचाई, सिवरेज तथा बाढ़ नियन्त्रण योजनाओं के लिए 62 करोड़ 53 लाख रूपये की राषि स्वीकृत की गई है जिनमें पेयजल योजनाओं पर 24 करोड़ रुपए, सिंचाई योजनाओं पर 8 करोड़, मल निकासी योजनाओं पर 24 करोड़ 50 लाख रूपये जबकि बाढ़ नियंत्रण योजनाओं पर 6 करोड़ रूपये की राषि व्यय की जा रही हैं।
आयुष्मान भारत योजना के अतंर्गत जिला सिरमौर मंे स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा अभी तक 74 हजार 994 गोल्डन कार्ड और हिमकेयर योजना के तहत 32 हजार 423 कार्ड बनाए गए। चालू वित्त वर्ष के दौरान अभी तक सहारा योजना के तहत 307 लोग पंजीकृत है जिनमें से 260 मरीजो को 37 लाख 47 हजार रूपये की सहायता राषी जारी कर इन्हे लाभंावितं किया गया है।
जिला में चालू वित्त वर्ष के दौरान 24 औद्योगिक ईकाईयों का पंजीकरण किया गया जिनमें 67 करोड़ 73 लाख रूपये का पूंजी निवेष हुआ तथा इन ईकाईयों में 685 लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार उपलब्ध करवाया गया जिसमें से 641 हिमाचली कामगार है।

जिला में इस वित्त वर्ष के दौरान मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना के तहत 106 प्रोजेक्ट स्वीकृत कर 2 करोड़ 81 लाख रूपये का उपदान उपलब्ध करवाया गया जबकि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत 34 प्रोजेक्ट स्वीकृत कर 48 लाख रूपये का उपदान प्रदान किया गया। जिला सिरमौर में लो वोल्टेज की समस्या के निराकरण के लिए 18 करोड़ की राषि व्यय की जा रही है जिसके अतंर्गत 97 किलोमीटर नई एच टी लाइन, 31 किलोमीटर नई एलटी लाईन तथा 47 किलोमीटर पुरानी एल टी लाइनों को बदलने के अतिरिक्त 164 नए ट्रांसफार्मर स्थापित किए जा रहे है।