हिमाचल: पहली फरवरी से एसओपी के तहत रेगुलर कक्षाएं शुरू

हिमाचल में पहली फरवरी से मास्क, दो गज की दूरी के साथ शिक्षण संस्थानों में कक्षाएं लगेंगी। सरकार ने सोमवार को इस बाबत एसओपी लिखित में जारी कर दी है। सरकार की ओर से जारी एसओपी के तहत ग्रीष्मकालीन अवकाश वाले राजकीय विद्यालयों में 27 जनवरी से शिक्षक नियमित रूप से उपस्थित होंगे और स्कूल प्रबंधन भारत सरकार के निर्देशानुसार सेनेटाइजेशन का कार्य पूरा करेंगे। अहम यह है कि जिन सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या ज्यादा होगी, वहां पर प्रधानाचार्य केवल बोर्ड के छात्रों को ही रेगुलर कक्षाएं लगाने के लिए बुलाएंगे।

जरुरी एसओपी दिशानिर्देश 

  •  मास्क, दो गज की दूरी के साथ खुलेंगे शिक्षण संस्थान

  • न खेलकूद की गतिविधियां करवाई जाएंगी, न ही प्रार्थना

  • 27 से शिक्षकों को करना होगा सेनेटाइजेशन का काम

  •  स्कूल खुलने के बाद भी जारी रहेगी ऑनलाइन स्टडी

  •  नियमों का पालन न होने पर प्रबंधन पर होगी कार्रवाई

इसके अलावा दूसरी कक्षाओं के छात्रों को एक दिन छोड़कर बुलाया जाएगा। सरकार ने इसके लिए प्रधानाचार्यों को अधिकृत कर  दिया है। बता दें कि पहली फरवरी से 5वीं व 8वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों की रेगुलर कक्षाएं लगनी हैं। ऐसे में शिक्षा विभाग की ओर से जारी अधिसूचना में स्पष्ट किया गया है कि विद्यालय प्रबंधन यह सुनिश्चित करेगा कि एसओपी का पालन किया जाए। राज्य सरकार ने यह साफ किया है कि 15 फरवरी के बाद शीतकालीन अवकाश वाले राजकीय विद्यालयों में भी 5वीं व 8वीं से 12वीं तक के छात्र एसओपी का पालन करते हुए शिक्षा ग्रहण करेंगे। सरकार की अधिसूचना में कहा गया है कि  हर घर पाठशाला के माध्यम से सभी छात्रों के लिए ऑनलाइन शिक्षण व्यवस्था भी जारी रहेगी।

सरकार की एसओपी में बताया गया है कि आठ फरवरी से प्रदेश के सभी महाविद्यालय एसओपी के साथ खुलेंगे। इसके साथ ही प्रदेश में आईटीआई, पॉलीटेक्नीक व  इंजीनियरिंग संस्थान भी पहली  फरवरी से पूरी एसओपी के साथ खोले जाएंगे। फिलहाल सरकार की ओर से जारी एसओपी के अनुसार छात्रों को स्कूल के कैंपस में एकत्र नहीं होने दिया जाएगा, न ही खेलकूद की गतिविधियां और प्रार्थना करवाई जाएगी। जिस छात्र में जुकाम, खांसी और बुखार जैसे लक्षण हैं, उन्हें स्कूल में आने की अनुमति नहीं दी जाएगी। अगर कोई बच्चा बीमार महसूस करता है तो उसकी तुरंत जानकारी अधिकारियों को शिक्षकों को देनी होगी। इसके साथ ही कैंपस में साफ सफाई की व्यवस्था का भी पूरा प्रबंध किया जाएगा। शनिवार और रविवार को स्कूलों में इसके लिए विशेष सफाई अभियान चलाया जाएगा। शिक्षा विभाग ने स्पष्ट किया है कि बायोमीट्रिक पर शिक्षकों और गैर शिक्षकों की हाजिरी नहीं लगाई जाएगी। फिलहाल लंबे समय के अंतराल बाद अब हिमाचल प्रदेश के स्कूल व कालेजों को खोलने की शुरुआत होने जा रही है। स्कूलों में छात्रों की हाजिरी को अनिवार्य नहीं किया जाएगा। अगर अभिभावक व छात्र अब भी संक्रमण को लेकर डर रहे हैं, तो उनका आना अनिवार्य नहीं होगा। इसके साथ ही शिक्षा विभाग ने यह प्लानिंग तैयार की है कि केवल दसवीं व जमा दो के छात्रों को ही स्कूल में आना जरूरी किया जाएगा। हालांकि इस पूरे मामले पर एक- दो दिन में शिक्षा विभाग अधिसूचना जारी कर स्थिति साफ करेगा।

फिलहाल नहीं लगेगी ये कक्षाएं

प्रदेश में अभी पहली, दूसरी, तीसरी, चौथी, छठी, सातवीं के छात्रों की रेगुलर कक्षाएं नहीं लगेंगी। इन कक्षाओं के छात्रों की हर घर पाठशाला के माध्यम से ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी।