बर्ड फ्लू : पौंग बांध क्षेत्र में 122 और प्रवासी पक्षियों की मौत

 हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित पौंग बांध क्षेत्र में बर्ड फ्लू से सोमवार को 122 और प्रवासी पक्षियों की मौत हो गई है। कांगड़ा जिला में 15 कौवे, सोलन में 5 जबकि मंडी में 4 मृत पक्षी मिले हैं। बर्ड फ्लू से पौंग बांध में अब तक 4,357 प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है।  प्रवासी पक्षियों में बर्ड फ्लू के नियंत्रण के लिए वन्य विभाग की टीमें पौंग झील क्षेत्र में पिछले 15 दिन से लगातार सक्रिय हैं।  वहीं, भारत सरकार की ओर से हिमाचल भेजी गई विशेषज्ञों की टीम ने देहरा और नगरोटा सूरियां में प्रवासी पक्षियों की मौत की स्थिति का अवलोकन करने के बाद सोमवार को जिला प्रशासन के साथ एक अहम बैठक की। बैठक के बाद केंद्र से आई टीम पंचकूला रवाना हो गई है।

उधर, प्रदेश के कांगड़ा जिले के पौंग बांध में बर्ड फ्लू फैलने की वजह से प्रदेश में बाहरी राज्यों से आ रहे पोल्ट्री उत्पादों पर एक सप्ताह के लिए रोक लगा दी गई है। संक्रमण को रोकने के लिए यह फैसला लिया गया है। सोमवार को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बर्ड फ्लू को लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। सीएम ने अफसरों को जलाशयों के आसपास कड़ी निगरानी रखने और लोगों को जागरूक करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि बर्ड फ्लू के कारण अब तक 4,324 प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है।

प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में अब तक 215 अन्य पक्षी मृत पाए गए हैं। इन पक्षियों को प्रोटोकॉल के अनुसार दफनाया जा रहा है। सीएम ने कहा कि पशुपालन और वन्य प्राणी विभाग के 65 त्वरित प्रतिक्रिया दल पौंग डैम और आसपास के क्षेत्रों की निगरानी कर रहे हैं। पशुपालन विभाग ने पोल्ट्री नमूने आरडीडीएल जालंधर को भेजे हैं। सोलन जिला के उपमंडल धर्मपुर में भी 1,000 मृत मुर्गियां फेंकी हुई पाई गई थीं। इन्हें गहरे गड्ढे में दबा दिया है। इस क्षेत्र को प्रोटोकॉल के अनुसार सैनिटाइज किया गया है