इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी प्रारूपों से पार्थिव पटेल ने अलविदा कहा

भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर दी है। पार्थिव पटेल ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर अपने संन्यास की घोषणा की। उन्होंने लिखा, मैं क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर रहा हूं और इसी के साथ मेरा 18 वर्षीय लंबा करियर समाप्त हो रहा है। मैं कई लोगों का आभार व्यक्त करना चाहता हूं। बीसीसीआई ने मुझ पर बहुत भरोसा जताया और 17 वर्ष के एक लड़के को टीम इंडिया के लिए खेलने का मौका मिला। भारत की तरफ से सबसे कम उम्र में बतौर विकेटकीपर टेस्ट में पर्दापण करने वाले पार्थिव ने अपने पोस्ट में बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरभ गांगुली का शुक्रिया अदा किया।
पटेल ने गांगुली की कप्तानी में पर्दापण किया था। 35 वर्षीय पार्थिव ने लिखा, मैं खास तौर पर दादा का आभारी हूं। वह मेरे पहले कप्तान हैं। उन्होंने मुझ पर काफी भरोसा जताया। उनके साथ खेलना मेरे लिए सौभाग्य की बात रही।  पार्थिव ने 17 वर्ष 152 दिन की उम्र में 2002 में टेस्ट क्रिकेट में पर्दापण किया और इस प्रारूप में छह अर्द्धशतक की मदद से 934 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत  31.13 का रहा। उन्होंने 62 कैच लपके और 10 स्टंप भी किए। पार्थिव ने एकदिवसीय करियर में 23.74 की औसत से चार अर्द्धशतकों की मदद से 736 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 30 कैच लपके और नौ स्टंप किए। उन्होंने लिखा, मुझे सुकून है कि मैंने खेल भावना, आपसी सामंजस्य और पूरी गरिमा के साथ खेला। मैंने जितने सपने देखे थे, उससे ज्यादा पूरे हुए। मुझे उम्मीद है कि मुझे इसी विचार के साथ याद रखा जाएगा और मेरे भविष्य के प्रयासों के लिए आपका समर्थन मिलेगा।