13 हजार से अधिक गर्मभवर्ती महिलाओं को कुपोषण का खतरा

0
2

शिमला: हिमाचल प्रदेश में 13 हजार से अधिक गर्मभवर्ती महिलाओं को कुपोषण का खतरा है. यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग की ओर से दी गई है. सरकार की ओर से मुख्यमंत्री बाल सुपोषण योजना (एमएमबीएसवाई) के तहत प्रदेश को कुपोषण से मुक्त करने की दिशा में कदम उठा रही है.
योजना को वर्ष 2021-22 के दौरान मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 में बच्चे और मां के पोषण स्तर के दृष्टिगत कार्य योजना तैयार करने की घोषणा की थी, जिसे नीति आयोग के सहयोग से राज्य सरकार ने तैयार किया है.

राज्य सरकार द्वारा इस योजना के लिए लगभग 65 करोड़ का बजट प्रावधान किया गया है. 6 माह से लेकर 6 वर्ष तक के चार लाख से अधिक बच्चों, 6 वर्ष से 10 वर्ष तक के पांच लाख से अधिक बच्चों, तीन लाख से अधिक किशोरियों और 94000 धात्री माताओं को लाभान्वित करेगी. योजना के अन्तर्गत 6 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को अतिरिक्त प्रोटीन युक्त भोजन उपलब्ध करवाने के अतिरिक्त कुपोषित बच्चों, धात्री माताओं और गर्भवती महिलाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है.