हिमाचल में 750 सीएचओ-200 आयुर्वेद डाक्टर होंगे भर्ती, हैल्थ वैलनेस केंद्रों पर होगी तैनाती

हिमाचल में स्वास्थ्य क्षेत्र में करीब 950 पदों पर नई नौकरियां मिलने जा रही है। इनमें से 750 पद कम्युनिटी हेल्थ अफसर यानी सीएचओ के हैं, जो पिछले काफी वक्त से लंबित हैं। दूसरी ओर आयुर्वेद विभाग में भी 200 बीएएमएस डाक्टरों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो गई है। राज्य सरकार हेल्थ मिशन के तहत बनने वाले हेल्थ वैलनेस केंद्रों पर सीएचओ की तैनाती करने जा रही है। कम्युनिटी हेल्थ अफसर के इन पदों को इसी साल एक बार पहले भी विज्ञापित किया था, लेकिन पात्रता नियमों पर विवाद के कारण इन्हें विदड्रॉ कर लिया गया था। यह भर्ती अब नए सिरे से होने वाली है। कुल 750 पद इस भर्ती के जरिए भरे जाएंगे। नई बात यह है कि इसके लिए सिर्फ बीएससी नर्सिंग में से ही भर्ती होगी। पहले शामिल किए गए इग्नू के छह महीने के कोर्स को अब इसमें से हटा दिया गया है। नेशनल हेल्थ मिशन केएमडी हेमराज बैरवा ने बताया कि सीएचओ की भर्ती के लिए पद बहुत जल्दी विज्ञापित होने जा रहे हैं। इस बारे में सरकार से पात्रता नियमों को लेकर मंजूरी मिल गई है, लेकिन सिर्फ भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के लिए हरी झंडी का इंतजार है।

दूसरी ओर आयुर्वेद विभाग ने भी डाक्टरों के 200 पद भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। आयुर्वेद विभाग ने बीएएमएस डाक्टरों के लिए पद वित्त विभाग से मांगे हैं। इस बारे में पहले ही राज्य सरकार ने वादा किया हुआ है। वित्त विभाग से मंजूरी मिलने के बाद अगली प्रक्रिया शुरू की जाएगी। डाक्टरों की यह भर्ती पूर्व निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार कमीशन और बैच वाइज आधार पर होती है। वित्त विभाग से मंजूरी मिलने के बाद यह मामला कैबिनेट के सामने रखा जाएगा और इसके बाद फिर आगे की प्रक्रिया लोक सेवा आयोग को दी जाएगी। आयुर्वेद विभाग के निदेशक विनय सिंह ने बताया कि इन पदों को भरने के लिए वित्त विभाग को फाइल भेजी गई है। वहां से मंजूरी मिलने के बाद ही अगली प्रक्रिया शुरू होगी, जिसका उम्मीदवार बेसव्री से इंतजार कर रहे हैं। (एचडीएम)

हाई कोर्ट पहुंची आयुर्वेद फार्मासिस्ट भर्ती

जेबीटी, जेई और जेओए आईटी की भर्ती के बाद अब आयुर्वेद फार्मासिस्ट की भर्ती भी हाई कोर्ट पहुंच गई है। इन पदों पर वर्तमान सरकार ने पहली बार बैच वाइज भर्ती की प्रक्रिया शुरू की थी। एक ओर जहां इस भर्ती के लिए दस्तावेजों की स्क्रीनिंग चल रही है, वहीं दूसरी ओर एससीवीटी से आयुर्वेदिक फार्मेसी कोर्स किए हुए अभ्यर्थी हाई कोर्ट चले गए हैं। इनकी मांग है कि प्रदेश से बाहर से यह कोर्स करके आए अभ्यर्थियों को इसमें शामिल न किया जाए। हालांकि हाई कोर्ट में इस याचिका पर अभी विभाग से जवाब मांगा गया है। भर्ती प्रक्रिया पर रोक नहीं लगी है।