हिमाचल में चार माह से बसों का सैनिटाइजेशन नहीं, कोरोना का खतरा बढ़ा

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच बस में सफर कर रहीं सवारियों पर संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। प्रबंधन की लापरवाही की वजह से राजधानी शिमला सहित प्रदेश के अधिकतर जिलों में लोकल और लंबे रूट पर दौड़ रहीं बसों की सैनिटाइजेशन पिछले 4 महीनों से बंद है। यही नहीं, बसों में 50 फीसदी सवारियां बिठाने के निर्देश भी नहीं माने जा रहे। बीते दिनों शिमला शहर में कोरोना पॉजिटिव हुए लोग बसों में सफर के दौरान संक्रमित हुए थे।

दरअसल लॉकडाउन के बाद एक जून से बसों का संचालन शुरू होने पर एचआरटीसी ने बसों को रूट पर भेजने से पहले और रूट से लौटने पर दो बार वर्कशॉप में सैनिटाइजेशन की व्यवस्था की थी। लेकिन अब जब तेजी से संक्रमण फैल रहा है तो सैनिटाइजेशन का काम बंद है। परिवहन विभाग ने टूटीकंडी आईएसबीटी, ओल्ड बस स्टैंड और लक्कड़ बाजार बस स्टैंड में सुलभ इंटरनेशनल के सहयोग से एचआरटीसी और प्राइवेट बसों की सैनिटाइजेशन के लिए 5 कर्मियों की तैनाती की थी। इसका खर्चा परिवहन विभाग कर रहा था। 2 महीने तक सैनिटाइजेशन हुई, लेकिन बीते 4 महीने से बंद है।
कंडक्टरों के पास न फेस शील्ड, न ग्लव्स
लॉकडाउन के बाद बसों का संचालन शुरू होने पर एचआरटीसी ने अपने कंडक्टर को फेस शील्ड और ग्लव्स उपलब्ध करवाए थे। प्राइवेट बसों के लिए परिवहन विभाग ने ड्राइवर-कंडक्टर को मास्क और सैनिटाइजर दिए थे। अब इनके पास न तो फेस शील्ड है न ग्लव्ज न सैनिटाइजर। राजधानी शिमला प्राइवेट मिनी बस ड्राइवर कंडक्टर एसोसिएशन के महासचिव अखिल गुप्ता ने मास्क और सैनिटाइजर उपलब्ध करवाने की अपील की है।
दोबारा जल्द शुरू होगी सैनिटाइजेशन व्यवस्था
परिवहन विभाग के निदेशक अनुपम कश्यप का कहना है कि बसों के सैनिटाइजेशन की व्यवस्था बंद नहीं होनी चाहिए थी। कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। जल्द यह व्यवस्था दोबारा शुरू करेंगे। एचआरटीसी के प्रबंध निदेशक संदीप कुमार ने बताया कि उनकी जानकारी के अनुसार बसें सैनिटाइजेशन के बाद ही रवाना की जा रही हैं। यदि व्यवस्था प्रभावित हुई है तो इसे दोबारा शुरू किया जाएगा।