हिमाचल के आठ शहरों में अब नहीं लगेगा जाम, सुधारी जाएंगी सड़कें

हिमाचल प्रदेश के आठ शहरों में शहरी सड़कों के सुधार और लोगों को जाम से निजात दिलाने के लिए सर्वे शुरू किया गया है। सर्वेक्षण के तहत नगर निगम क्षेत्र से जुड़ने वाली सड़कों, नगर परिषद के तहत आने वाली पार्किंग व्यवस्था और अन्य कार्यों पर काम किया जाएगा। इसका मकसद शहरी क्षेत्रों में ट्रैफिक की व्यवस्था को सुधारना है। वहीं नगर निगम क्षेत्र में पार्किंग की असुविधा से जूझ रहे लोगों को समस्या से निजात दिलवाने के लिए भी प्लान तैयार होगा।

हिमाचल प्रदेश रोड एंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीआरआईडीसीएल) ने प्रदेश के आठ शहरों बिलासपुर, चंबा, हमीरपुर, कुल्लू, मंडी, सिरमौर के नाहन, सोलन और ऊना में इस सर्वे का काम एलएनटीआईईएल कंपनी को सौंपा है। यह सर्वे आठ बिंदुओं पर केंद्रित होगा। इसमें शहर के मुख्य चिह्नित स्थानों की सड़क किनारे दिन के 12 घंटे में पार्क की गईं गाड़ियों की संख्या गिनना, कैमरा लगाकर ट्रैफिक को रिकॉर्ड करना, शहर की गलियों के किनारे और शहर के अंतिम छोर तक पार्किंग का इनपुट लेना, जिला मुख्यालय की मुख्य सड़कों का आकलन करना, ट्रायल पिट लगाकर बिना ट्रैफिक को बाधित किए सर्वे करना है। इसी के साथ शहर में बनने वाले फुट ब्रिजों पर भी सर्वे होगा।

घरों के आगे पार्क होने वाली गाड़ियों का भी सर्वे होगा। कंपनी के सर्वे इंजीनियर योगेश शर्मा ने बताया कि बिलासपुर में सोमवार को पार्किंग सर्वे शुरू किया गया। इसमें पांच टीमें कार्य कर रही हैं, जो शहर की सड़कों के किनारे खड़े वाहनों की गिनती करेंगी। सुबह आठ बजे से शाम आठ बजे तक हर आधे घंटे बाद यह गिनती होगी। इसमें एक गाड़ी कितने घंटे कहां खड़ी रहीं, गाड़ी के नंबर के साथ इसे नोट किया जाएगा। कहा कि शहर में इस सर्वे के बाद ऑडी सर्वे होगा। इसमें जो रोड शहर से जुड़ते हैं, उसके ट्रैफिक को रिकॉर्ड किया जाएगा। उससे पता चलेगा कि हर दिन शहर में बाहर से कितनी गाड़ियां आती हैं। इससे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने में सहायता मिलेगी।