हमीरपुर : बीपीएल का कोई भी सदस्य अगर शराब के नशे में पकड़ा गया, तो होगा बीपीएल सूची से बहार

नशे के खिलाफ सरकारें ऊपरी स्तर पर वर्षों से प्रयास करती आ रही हैं लेकिन परिणाम उतने सकारात्मक नहीं दिखते जितने होने चाहिएं। ऐसे में अब पंचायतें अपने स्तर पर नशे के खिलाफ मोर्चा खोलने की तैयारी में हैं। हमीरपुर जिला के भोरंज उपमंडल की भगेटू पंचायत ने नशे के खिलाफ ग्राम सभा की बैठक में एक दिलचस्प फरमान जारी कर दिया है। पंचायत की ग्राम सभा की बैठक में प्रस्ताव पारित किया गया कि बीपीएल का कोई भी सदस्य अगर शराब के नशे में पकड़ा गया, तो उसका नाम बीपीएल सूची से काट दिया जाएगा। इसके अलावा पंचायत के सार्वजनिक स्थलों और जंगलों में शराब पीते पकड़े जाने पर उन्हें पुलिस के हवाले किया जाएगा, ताकि कोई भी व्यक्ति पंचायत का माहौल खराब न कर सके। बता दें कि भगेटू पंचायत का इन चुनावों में पहली बार गठन हुआ है।

नवनियुक्त प्रधान ने कार्यभार संभालते ही फैसला लिया था कि उन्हें जो भी वेतन मिलेगा उसे गरीबों में बांटा जाएगा। भगेटू पंचायत की पहली ग्राम सभा की बैठक सोमवार को आयोजित की गई। ग्राम सभा में नशे को लेकर कड़े फैसले लिए गए हैं। दरअसल अकसर यह शिकायतें मिलती रहती हैं कि कई ग्रामीण दिन में भी शराब में टल्ली रहते हैं उससे न केवल उनके घर का माहौल खराब हो रहा है बल्कि पंचायत का माहौल भी खराब होता है। इससे युवा पीढ़ी भी प्रभावित हो रही है। इसके अलावा ग्राम सभा में निर्णय लिया गया कि पंचायत का कोई भी बच्चा गरीबी के चलते अगर अपनी पढ़ाई आगे जारी नहीं रख पा रहा है, तो पंचायत व प्रधान उस छात्र की पढ़ाई का खर्चा उठाएगी और उसकी शिक्षा पूरी करवाएगी। (एचडीएम)