स्वतंत्रता

मेरी सवेच्छा
मेरी अभिव्यक्ति
मेरे शब्द
देते प्रमाण
हूं मैं स्वतंत्र ।
पर यह स्वतंत्रता
है एक बंधन ही
करने पड़ते निर्वाह
कुछ कर्तव्य भी,
कि मेरी इच्छा
ना बने
किसी की अनिच्छा,
अभिव्यक्ति का
ना हो प्रतिरोध
और शब्द
ना बदलें अर्थ ।
क्योंकि,
मेरी स्वतंत्रता से
जुड़ी है
किसी और की
स्वतंत्रता भी ।