सोलन को पॉलीथीन मुक्त बनाने के लिए सामूहिक प्रयास आवश्यक-केसी चमन

????????????????????????????????????

उपायुक्त सोलन केसी चमन ने कहा कि सोलन जिला को पॉलीथीन मुक्त बनाने के लिए समाज के सभी वर्गों को एकजुट होकर कार्य करना होगा। सोलन जिला को पॉलीथीन मुक्त बनाने के लिए 27 अक्तूबर, 2019 तक तीन चरणों में व्यापक पॉलीथीन कचरा उन्मूलन कार्यक्रम कार्यान्वित किया गया है। केसी चमन आज यहां पॉलीथीन कचरा उन्मूलन कार्यक्रम विषय पर आयोजित एक बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।
केसी चमन ने कहा कि 11 सितंबर से 2 अक्तूबर, 2019 तक जिला को पॉलीथीन मुक्त बनाने के लिए सभी सरकारी व गैर सरकारी संस्थाओं, औद्योगिक इकाइयों, शिक्षण संस्थानों तथा सामाजिक संस्थाओं को आपसी समन्वय स्थापित कर पॉलीथीन व प्लास्टिक रहित वातावरण कायम करने में निःस्वार्थ भाव से अपना सहयोग देना होगा।

उन्होंने कहा कि पॉलीथीन मुक्त वातावरण के साथ-साथ स्वच्छता के विषय में समाज के सभी वर्गों को जागरूक करना नितांत आवश्यक है ताकि जल, जंगल व जमीन का संरक्षण केवल सरकार दायित्व न रहे अपितु इस कार्य को सामूहिक भागीदारी के माध्यम से पूरा किया जा सके।
उन्होंने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि 2 अक्तूबर, 2019 को अपने-अपने कार्यालय के आसपास प्लास्टिक को एकत्रित करके संबंधित नगर परिषद, नगर पंचायत तथा ग्रामीण स्तर पर ग्राम पंचायत को एकत्रित प्लास्टिक को देना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि एकत्रित प्लास्टिक को सड़क बनाने के लिए लोक निर्माण विभाग या सिविल प्लांट को निपटारे के लिए सुपुर्द किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि प्रदेश मंत्रिमंडल की हाल ही में हुई बैठक में नॉन रिसाइकल-प्लास्टिक वेेस्ट तथा विभिन्न अन्य प्रकार के सिंगल यूज प्लास्टिक वेस्ट की पुनः खरीद के लिए प्रस्तावित नीति को भी अपनी स्वीकृति प्रदान की है जिसके तहत 75 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित किया गया है। यह दाम घरों से कूड़ा-कचरा एकत्रित करने और उसे शहरी स्थानीय निकायों के पास जमा करने की एवज में निर्धारित किया गया हैं ताकि प्रदेश में स्वच्छता बनाई रखी जा सके।

उपायुक्त ने आह्वान किया कि पर्यावरण संरक्षण के संबंध में प्रत्येक व्यक्ति को सजग रहने की आवश्यकता है तभी हम आने वाली पीढि़यों को स्वच्छ व स्वस्थ वातावरण प्रदान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सभी को समझाया जाए कि पॉलीथीन के लाभ कम और नुकसान अधिक है तथा भविष्य में इसका प्रयोग करने वालों से नियमानुसार सख्ती से निपटा जाएगा।
अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी विवेक चंदेल, उपमंडलाधिकारी सोलन रोहित राठौर, उपमंडलाधिकारी कंडाघाट डॉ. संजीव धीमान, सहायक आयुक्त भानु गुप्ता सहित विभिन्न विभागांे के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।