सिल्वर मेडेलिस्ट निषाद पहुंचे घर, परिजनों से मिले तो छलके आसूं

ऊना: टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics:) में भारत को सिल्वर पदक जिताने और दुनिया में देश और हिमाचल प्रदेश के नाम चमकाने वाले निषाद कुमार शुक्रवार को अपने घर ऊना (Una)पहुंच गए हैं. ऊना जिले के अंब उपमंडल के निषाद का यहां पहुंचने पर धुसाड़ा से लेकर अंब तक सात जगह भव्य स्वागत किया गया. लोगों ने घर में जश्न मनाया और बधाइयां देने वालों का तांता लगा हुआ है.

निषाद की जीत की खुशी में लोगों और परिजनों ने भंगड़ा डालकर स्वागत किया. इस दौरान परिजनों से मिलकर निषाद के आंसू छलक पड़े. निषाद को हिमाचल सरकार  (Himachal Government) ने एक करोड़ रुपये इनाम देने का ऐलान किया है. बता दें कि निषाद (Nishad Kumar) लंबी और ऊंची कूद के साथ दौड़ स्पर्धाओं में भी अव्वल रहा है. बचपन में ही निषाद का हाथ मशीन में आने से कट गया था.

पैरालंपिक में निषाद कुमार ने टी-47 कैटेगरी में 2.09 मीटर जंप के साथ दूसरा स्थान हासिल किया. निषाद ने इसी साल दुबई में हुई फाजा विश्व पैरा एथलेटिक्स ग्रां प्री में हाई जंप टी-47 कैटेगिरी में गोल्ड मेडल जीता था. बता दें कि टोक्यो पैरालंपिक में भारत को सिल्वर मेडल दिलाने वाले निषाद कुमार हिमाचल प्रदेश के जिला ऊना के उपमंडल अंब के छोटे से गांव बदाऊं के रहने वाले हैं. 22 वर्षीय निषाद कुमार ने एशियन चैंपियनशिप (Asian Championship) में भी रिकॉर्ड बनाया हैं. उन्होंने पैरालिंपिक खेलों की शुरुआत से पहले बेंगलुरु के कोचिंग कैंप में महीनों तक कड़ी मेहनत की थी.