सिरमौर: पांवटा साहिब में शराब की फैक्ट्री सील, विभाग ने की कार्रवाई

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में चल रही शराब की एक फैक्ट्री को राज्यकर एवं आबकारी विभाग ने सील कर दिया है। दरअसल, राज्यकर एवं आबकारी विभाग के उप आयुक्त सिरमौर प्रीतपाल सिंह ने गुप्त सूचना के आधार फैक्ट्री में छापा मारा। गुरुवार शाम करीब चार बजे विभाग ने फैक्ट्री में दबिश दी। निरीक्षण के दौरान फैक्ट्री में 13802 लीटर ईएनए बिना परमिट के पाया गया। इसको लेकर जब फैक्ट्री प्रबंधन दस्तावेज उपलब्ध करवाने में नाकाम रहा।

टीम ने समाहर्ता दक्षिण रेंज पंकज शर्मा को सूचित करने के बाद फैक्ट्री को आगामी कार्रवाई तक सील कर दिया है। विभाग की यह कार्रवाई रातभर चली। जानकारी के अनुसार फैक्ट्री में शराब बनाने के लिए जो ईएनए (कच्चा माल) पाया गया, उससे 5155 पेटी देसी शराब बनाई जा सकती थी। विभाग ने इसका आकलन किया, जिसमें लाइसेंस फीस, अतिरिक्त लाइसेंस फीस, टीएसए फंड, एक्साइज ड्यूटी, वैट, आयात फीस व बोटलिंग फीस आदि मिलाकर कुल राजस्व राशि 99 लाख 11 हजार 73 रुपये बनती है। यदि विभाग समय पर यह कार्रवाई नहीं करता तो सरकारी राजस्व को एक करोड़ के लगभग चूना लग सकता था।

इस कार्रवाई के दौरान उप आयुक्त प्रीतपाल सिंह के साथ सहायक आयुक्त भूपराम, गगनेश कुमार, निरीक्षण पंकज कुमार, चिरंजी लाल, राजिंद्र के अलावा श्यामलाल आदि मौजूद रहे। उधर, राज्यकर एवं आबकारी विभाग के उप आयुक्त प्रीतपाल सिंह ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि छापेमारी के बाद फैक्ट्री को आगामी आदेशों तक सील कर दिया है। उन्होंने बताया कि मामला समाहर्ता दक्षिण रेंज शिमला को आगामी कार्रवाई के लिए भेजा गया है। उन्होंने बताया कि फैक्ट्री से एक करोड़ की राशि की रिकवरी की जाएगी। इसके अलावा फैक्ट्री पर जुर्माना लगाना अथवा लाइसेंस रद्द व सस्पेंड करने संबंधी कार्रवाई उच्चाधिकारियों की ओर से अमल में लाई जाएगी।