सरकारी नौकरी: हिमाचल के मुख्यमंत्री की संस्तुति से भरे जाएंगे चार हजार मल्टी टास्क वर्करों के पद

हिमाचल प्रदेश शिक्षा विभाग में आठ हजार मल्टी टास्क वर्करों की भर्ती होगी तो मुख्यमंत्री जयराम की संस्तुति से चार हजार पद भरे जाएंगे। शनिवार को मंत्रिमंडल की बैठक में भर्तियों को लेकर अनौपचारिक चर्चा हुई। अगले माह होने वाली मंत्रिमंडल की बैठक में भर्ती प्रस्ताव को मंजूरी दी जाएगी। चार हजार पद आवेदन आधार पर भरे जाएंगे तो बाकी चार हजार पदों की नियुक्तियों पर मुख्यमंत्री अपने विवेक से फैसला लेंगे कि किसे भर्ती किया जाना है।

बीते कई माह से मल्टी टास्क वर्करों की भर्ती का मामला लटका हुआ है। वित्त महकमे से अभी प्रस्ताव को मंजूरी नहीं मिली है। शनिवार को मंत्रिमंडल की बैठक में हुई अनौपचारिक चर्चा में कहा गया कि आठ हजार मल्टी टास्क वर्करों की भर्ती जल्द होनी चाहिए। बीते कई माह से भर्ती के प्रस्ताव को मंत्रिमंडल की मंजूरी के लिए न लाने को लेकर नाराजगी भी जताई गई। एक वरिष्ठ मंत्री ने बताया कि आठ हजार मल्टी टास्क वर्करों की भर्ती में चार हजार पद भरने की शक्ति मुख्यमंत्री को दी जाएगी। शेष चार हजार पद आवेदनों के आधार पर भरे जाएंगे।

स्कूल से घर की दूरी के हिसाब से मिलेंगे नंबर
हिमाचल प्रदेश में मल्टी टास्क वर्कर की भर्ती के लिए स्कूल से घर की दूरी का सर्टिफिकेट लाना होगा। इसके लिए अभ्यर्थियों को ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत सचिव और शहरी क्षेत्रों में कार्यकारी अधिकारी से प्रमाणपत्र जारी करेंगे। भर्ती में स्कूल से घर की दूरी के हिसाब से दो से दस नंबर मिलेंगे। एसडीएम की अध्यक्षता वाली चयन कमेटी नियुक्तियां करेगी।

5625 रुपये का मिलेगा प्रतिमाह वेतन
वर्करों को प्रतिमाह 5,625 रुपये वेतन मिलेगा। नियुक्तियां करने से पहले स्कूल और पंचायत के नोटिस बोर्ड पर विज्ञापन लगाए जाएंगे। अभ्यर्थियों को खंड प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी के पास सादे कागज पर आवेदन करना होगा। स्कूल को खोलना और बंद करना, परिसर और कक्षाओं में सफाई करना, पीने के पानी का इंतजाम करना और स्कूल की डाक को अन्य विभागों में पहुंचाना, इनका काम होगा। भर्ती के लिए स्थानीय स्कूल की ओर से बीईओ को मांग भेजी जाएगी। बीईओ इस मांग को निदेशालय भेजेंगे। निदेशालय से मंजूरी के बाद भर्ती का विज्ञापन जारी किया जाएगा।