सरकाघाट में मॅहगाई के ख़िलाफ़ माकपा का प्रदर्शन, प्रधानमंत्री को भेजा ज्ञापन

सरकाघाट मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने बढ़ती मॅहगाई, पैट्रोल, डीज़ल, रसोई गैसऔर डिपुओं में मिलने वाले राशन की कीमतों में की गई वृद्धि के खिलाफ आज सरकाघाट में प्रदर्शन किया और एसडीएम के माध्यम से सरकार को ज्ञापन सौंपा।जिसका नेतृत्व पार्टी के सचिव और पूर्व ज़िला परिषद सदस्य भूपेंद्र सिंह ने किया।

भूपेंद्र सिंह ने कहा कि केंद्र व राज्य की भाजपा सरकारें महँगाई रोकने में पूरी तरह फ़ेल हो चुकी है और आम जनता मॅहगाई से बुरी तरह त्रस्त है। लेकिन ये सरकार देश के उद्योगपतियों व तेल कम्पनियों को फ़ायदा देने के लिए ही नीतियां बना रही है।उन्होंने कहा कि रसोई गैस सिलेंडर की कीमत पिछले एक महीने में 2सौ रुपये बढ़ा दी गई और अब एक सिलेंडर 9 सौ रुपये में मिल रहा है। सरकार जिन पेट्रोलियम पदार्थों को 30-35 रु प्रति लीटर विदेशों से खरीद करती है उसे तेल कंपनियां आज 90 से 100रु लीटर बेच रही है। लेकिन मोदी सरकार इन तेल कंपनियों के आगे बिक चुकी है और देश की जनता को इस सरकार ने तेल कम्पनियों के आगे गिरवी रख दिया गया।भूपेंद्र सिंह ने यह भी बताया कि एक सर्वेक्षण के अनुसार देश के स्तर पर ग्रामीण इलाकों में दैनिक जीवन में उपभोग होने वाली वस्तुओं में 10 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई है जो आज़ादी के बाद सर्वाधिक गिरावट है।

इसलिए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी व अन्य विपक्षी विपक्षी दल सरकार की इन जनविरोधी नीतियों के ख़िलाफ़ व सड़कों पर उतर कर उग्र आंदोलन शुरू कर रहे हैं और 17 मार्च को विधानसभा का शिमला में घेराव करने वाले हैं।सचिव CPIM