श्तायू प्रसिद्ध पर्यावरण विद मीन सिंह पुण्डीर का देहांत

नौहरा धार तहसील के देवना गांव के प्रसिद्ध पर्यावरण विद मीन सिंह पुण्डीर ने बीती रात 12 बजे अपने निवास स्थान फागणी में आखरी सांस ली। आधार कार्ड के अनुसार मीन सिंह पुण्डीर ने 107 वर्ष की निरोग आयु पाई । उन्हे जेष्ठ पत्र पृथ्वी सिंह पुण्डीर ने मुखाग्नी दी।

देहांत से पूर्व भी मीन सिंह पुन्ड़ीर ने अप्ने पुत्रो से उन्के अन्तिम संस्कार पर शमशान घाट पर एक देवदार का पौधा लगाने को कहा था।

बाल्यकाल से ही मीन सिंह पुन्दीर को पर्यावरण से इतना लगाव था कि उन्होने महज 13 वर्ष की आयु से ही अपनी मल्कियत व सरकारी भूमि पर विभिन्न प्रकार के असंख्य पौधो को रोपित किया जिन्होने आज घने जंगल की सुरत अख्त्यार कर ली हें। उन्के भतीजे सुरेन्द्र पुण्डीर ने बताया कि मीन सिंह पुण्डीर की असाधारण उपलब्धी के लिय राज्य सरकार ने जिलाधीश के माध्यम से वर्ष 2018 में गणतंत्र दिवस पर सम्मानीत् कीया इसके साथ ही हिमाचल प्रदेश की प्रसिद्ध संस्था हिमोत्कर्श ने वर्ष 2019 में मीन सिंह पुन्ड़ीर को उत्कर्ष्ट पर्यावरण विद के सम्मान से स्मानित किया।
स्थानीय पंचायत प्रधान सत्या देवी, पूर्व प्रधान ब्रह्मा नंद शर्मा, मोहन लाल चौहान विपता राम पुण्डीर, जिला परिषद सद्स्य बेलमंती पुण्डीर, पंचायत समिति सद्स्य हेत राम भारद्वाज तथा पर्यावरण संस्थाओ ने मीन सिंह पुण्डीर के देहांत पर शोक व्यक्त किया तथा कहा कि पुण्डीर का देहांत एक युग का अन्त हें।