शिमला समेत कई जिलों में बारिश, सात डिग्री कम रिकॉर्ड हुआ पारा

नए साल के दूसरे दिन ही प्रदेश में मौसम बदल गया है। मैदानी क्षेत्रों में बारिश और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी से जनजीवन पर असर पड़ा है। शनिवार को रोहतांग, जलोड़ी दर्रे समेत प्रदेश की ऊंची चोटियों पर साल की पहली बर्फबारी हुई। अटल टनल रोहतांग के नार्थ पोर्टल से पुलिस ने सैलानियों के 250 वाहनों को बर्फबारी के चलते वापस भेज दिया। शनिवार को राजधानी शिमला सहित कई जिलों में हल्की बारिश हुई।
बर्फबारी के चलते शनिवार को दो नेशनल हाईवे सहित 70 छोटी-बड़ी सड़कें वाहनों की आवाजाही के लिए ठप रहीं। 30 बसें भी फंसी हुई हैं। चार और पांच जनवरी को प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में भारी बारिश और बर्फबारी का येलो अलर्ट जारी हुआ है। छह जनवरी तक प्रदेश में मौसम खराब बना रहने का पूर्वानुमान है। सात और आठ जनवरी को धूप खिलने की संभावना है। नौ जनवरी को फिर बारिश-बर्फबारी के आसार हैं। रविवार को भी प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी और अन्य क्षेत्रों में बारिश होने की संभावना है।
राजधानी शिमला, मनाली, डलहौजी समेत अधिकतर जिलों में शनिवार को हल्की बारिश हुई। मैदानी जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर और कांगड़ा में सुबह के समय घना कोहरा छाया रहा। जिला कुल्लू और लाहौल स्पीति के रोहतांग सहित अन्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों में शुक्रवार रात से ही शुरू हुआ बर्फबारी का दौर शनिवार को भी जारी रहा। कुफरी में भी शनिवार सुबह हल्के फाहे गिरे।