शिक्षा विभाग का दो दिवसीय विशेष वैक्सीन अभियान शुरू

शिक्षा विभाग का दो दिवसीय विशेष वैक्सीन सोमवार से शुरू हुआ । वैक्सीन लगाने के लिए प्रदेश के स्कूल-कॉलेजों में करीब 200 केंद्र बनाए जाएंगे। इस दौरान करीब सवा लाख विद्यार्थियों, शिक्षकों, गैर शिक्षकों, अभिभावकों, जलवाहकों और मिड-डे मील वर्करों का टीकाकरण किया जाएगा। अभियान को सफल बनाने के लिए हर वैक्सीन केंद्र पर तीन से चार शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है।

यह शिक्षक हर दो घंटे बाद शिक्षा निदेशालय को रिपोर्ट करेंगे। हर केंद्र पर 200 से 300 लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है। जुलाई से शुरू होने वाली कॉलेजों के फाइनल ईयर के विद्यार्थियों को वैक्सीन लगाने में प्राथमिकता दी जाएगी। इसके अलावा 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी विद्यार्थी, उनके भाई-बहन और माता-पिता भी इस विशेष अभियान में शामिल होकर वैक्सीन लगा सकेंगे।

एक जुलाई से शीतकालीन स्कूलों सहित कुल्लू और लाहौल-स्पीति जिलों के स्कूलों में शिक्षकों की हाजिरी अनिवार्य कर दी गई है। ऐसे में इन शिक्षकों को भी 28 और 29 जून को आयोजित होने वाले विशेष अभियान में वैक्सीन लगाई जाएगी। उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा ने बताया कि वैक्सीन अभियान को सफल बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ बातचीत हो गई है। उन्होंने सभी पात्र विद्यार्थियों और शिक्षकों-गैर शिक्षकों से इन दो दिनों के दौरान वैक्सीन लगाने की अपील की है।

वैक्सीन लगाने वालों को ही परीक्षा देने की नहीं है कोई शर्त
उच्च शिक्षा निदेशक ने बताया कि वैक्सीन लगाने के बाद ही कॉलेजों में विद्यार्थियों को परीक्षा में शामिल किया जाएगा, ऐसी कोई भी शर्त नहीं है। सभी पात्र विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हो सकेंगे, चाहे किसी ने वैक्सीन लगाई है या नहीं लगाई। उन्होंने कहा कि विभाग का प्रयास है कि हर विद्यार्थी को परीक्षा से पहले वैक्सीन लगाई जाए। अगर कोई विद्यार्थी किसी कारणवश वैक्सीन नहीं लगा सकेगा तो उसे परीक्षा देने से नहीं रोका जाएगा।