शिक्षा निदेशालय में तैनात शिक्षकों की होगी स्कूल-कॉलेजों में वापसी

हिमाचल प्रदेश उच्च और प्रारंभिक शिक्षा निदेशालयों में नियुक्त शिक्षकों की स्कूल और कॉलेजों में वापसी होगी। सरकार ने दोनों शिक्षा निदेशालयों से ऐसे शिक्षकों का रिकॉर्ड तलब किया है। ओएसडी और अन्य पदों पर करीब पचास शिक्षक लंबे समय से शिक्षा निदेशालयों में नियुक्त हैं। शिक्षा सचिव राजीव शर्मा की ओर से दोनों शिक्षा निदेशकों को इस बाबत पत्र जारी किया गया है।

प्रदेश के सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में शिक्षकों के कई पद रिक्त हैं। शिक्षकों की कमी के चलते विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित होती रही है। इसके बावजूद कई शिक्षकों ने स्कूल और कॉलेजों में सेवाएं देने की जगह निदेशालय में नियुुक्ति ली हुई है। इन शिक्षकों को निदेशालय में नियुक्ति देने के लिए ओएसडी सहित कई अन्य नए पद सृजित किए गए हैं।

राजधानी शिमला में रहने के लिए जोड़तोड़ कर निदेशालय में सेवाएं दे रहे यह शिक्षक गैर शिक्षण कार्य कर रहे हैं। इन शिक्षकों की इस कारगुजारी के चलते अन्य अध्यापकों में रोष व्याप्त है। कई शिक्षक संगठन भी समय-समय पर इनके खिलाफ मुखर होते रहे हैं, लेकिन इन शिक्षकों को कोई हिला नहीं सका है।
अब प्रदेश सरकार ने स्वयं इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए उच्च और प्रारंभिक शिक्षा निदेशकों से ऐसे शिक्षकों का ब्योरा देने को कहा है। ऐसे में संभावित है कि आने वाले दिनों में निदेशालय में नियुक्त इन शिक्षकों की स्कूलों और कॉलेजों में वापसी होगी। जिस विशेष कार्य के लिए इन शिक्षकों को सरकारी नौकरियां दी गई हैं, इनसे वह काम भी लिया जाएगा।