शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढा़ता है शटाके


शिमला (पूजा शर्मा): आप सबने मशरूम के बारे में सुना होगा, साधारण मशरूम की अगर बात की जाए जो देखने में वाइट कलर का होता है आपको इजिली कहीं भी मिल जाएगा लेकिन शटाके की बात की जाए तो यह केवल जापान में ही पाया जाता है अच्छी खबर यह है कि राजधानी शिमला में आपको शटाके, पिंक कॉस्टर और गैनोडर्मा अब आसानी से उपलब्ध होगा .

क्या है शटाके(लैटीनुमा इडोस)
शटाके एक तरह का मशरूम होता है इसकी सुगंध और रंग के कारण यह ज्यादा आकर्षक होता है यह देखने में भूरे रंग का होता है शटाके शरीर के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होते हैं रक्त संचार को बढ़ाता है इसके अलावा यह अन्य मशरूम से देखने में विभिन्न होता है इसमें कैंसर, मधुमेह,उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रोल आदि सभी बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है , शटाके जापान में पाया जाता है, शटाके कैंसर सेल्स को रोकने में सहायक है,एंटीवायरल एंटीबैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं 100 ग्राम शटाके में 5 स- 7 मिलीग्राम सेलिनियम पाया जाता है. इसके अलावा बुजुर्गों और बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी ये बहुत फायदेमंद है.

क्या है गैनोडरमा
बात करते हैं गनोडरमा भी की औषधीय गुणों से युक्त होता है यह ह्रदय रोग किडनी और कैंसर के साथ अन्य बीमारियों के लिए बहुत फायदेमंद है इसमें फोलिक एसिड होता है ,गेनोडरमा खून की कमी को दूर करता है प्रोटीन और वाइटामिन्स भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाती है, इसके गैनोडरमा के कैप्सूल भी बहुत फायदेमंद होते हैं

पिंक ऑस्टर्स
पिंक ऑस्टर्स देखने में पिंक कलर के होते हैं यह वाइट और येलो कलरस में भी पाए जाते हैं, इसमें विटामिन बी 12 होता है, ये मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में बहुत सहायक होता है,लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है और कैस्ट्रोल को भी कम करता है