विश्व ह्रदय दिवस: कोरोना दिल का नया दुश्मन, चार में से एक मौत का बना कारण, ऐसे रखें ध्यान

वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन के अनुसार, विश्व में 1.86 करोड़ लोग हर वर्ष हृदय संबंधी तकलीफों से जान गंवाते हैं। यही नहीं हृदय रोग से ग्रसित 52 करोड़ लोगों के लिए कोरोना महामारी खतरनाक चुनौती है।

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, पांच में से एक मौत का कारण कार्डियो वैस्कुलर डिजीज (सीवीडी) या स्ट्रोक है। इसमें से एक तिहाई मौतें असामयिक होती हैं। अधिकतर मृतकों की उम्र 70 वर्ष से कम होती हैं।

हार्ट अटैक आने पर क्या करें?

108 पर फोन कर एम्बुलेंस बुलाएं या रोगी को खुद नजदीकी अस्पताल ले जाएं
लक्षण दिखने पर तुरंत एस्पिरिन दवा दें, हृदय को नुकसान होने से बचाएं
हृदय रोगी है और डॉक्टर ने नाइट्रोग्लिसिरन पहले लिखी है तो तुरंत दें
बेसुध है तो सीपीआर दें, एक मिनट में 100 से 120 बार सीने को दबाएं
80 फीसदी कार्डियक अरेस्ट के मामले दुनियाभर में घर पर ही होते हैं
हार्ट अटैक के लक्षणों को ऐसे पहचानें

सीने में दबाव महसूस होना n दर्द होना n सीने या हाथ में खिंचाव महसूस होना
पाचन में तकलीफ
हार्टबर्न
पेट में दर्द
जी मिचलाना
सांस की तकलीफ
अचानक से थकान महसूस होना।
आगे पढ़ने के लिए लॉगिन या रजिस्टर करें