विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बने एशियाई चैंपियन अमित पंघाल

एशियाई चैंपियन अमित पंघाल विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बन गए हैं। वहीं सेमीफाइनल में हारकर मनीष कौशिक ने सिर्फ कांस्य पदक से संतोष किया।

अमित पंघाल विश्व पुरूष मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फ़ाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज बन गए हैं। दूसरी वरीयता प्राप्त अमित ने 52 किलोवर्ग के सेमीफ़ाइनल में कज़ाखस्तान के साकेन बिबोसिनोव को 3-2 से मात दी। अब फाइनल में उनका सामना शनिवार को उज्बेकिस्तान के शाखोबिदिन जोइरोव से होगा जिन्होंने फ्रांस के बिलाल बेनामा को दूसरे सेमीफाइनल में शिकस्त दी।

भारतीय मुक्केबाजी में अमित पंघाल के ऊपर चढ़ने का ग्राफ शानदार रहा है।

अमित ने 2017 में राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में पहली बार भाग लेते हुए स्वर्ण पदक जीता था। इसी साल एशियाई चैम्पियनशिप में उन्होंने 49 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता। 2017 में ही विश्व चैम्पियनशिप में पदार्पण करते हुए अमित क्वार्टरफाइनल तक पहुंचे थे। 2018 में उन्होंने कॉमनवेल्थ खेलों में रजत पदक जीता और एशियाई खेलों में स्वर्ण। इस साल उन्होंने एशियाई चैम्पियनशिप का स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

49 किग्रा भारवर्ग के ओलिंपिक से हटने के बाद अमित ने 52 किग्रा भारवर्ग में खेलने का फैसला किया। भारत ने कभी भी विश्व चैम्पियनशिप के एक संस्करण में एक कांस्य पदक से ज्यादा हासिल नहीं किया था।

विजेंदर सिंह ने  2009 , विकास कृष्ण ने 2011 , शिवा थापा ने 2015 और गौरव बिधुड़ी ने 2017 की विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक हासिल किया था।

हालांकि इस साल अमित पंघाल और मनीष कौशिक ने नया इतिहास रच दिया है। मनीष कौशिक 63 किग्रा में कांस्य जीत चुके हैं जबकि अमित अब स्वर्ण पदक के लिए शनिवार को रिंग में उतरेंगेँ।