अनाथ हुए बच्चों को 35 सौ रुपये हर महीने देगी राज्य सरकार

धर्मशाला:  कोरोना (Corona Virur) के इस काल ने इंसान का कई परिस्थितियों से उसका वास्तविक परिचय करवाया है. आलम ये है कि आज कोरोना की बदौलत जहां सैकड़ों लोगों का रोजगार छिन गया है तो सैकड़ों ऐसे परिवार हैं जिनके सिर से दो जून की रोटी का जुगाड़ करने वालों का ही साया उठ गया है. कई बच्चों के सर से उनके मां-बाप तक का साया उठ गया है. ऐसे में हिमाचल (Himachal Pradesh) की सरकार ने अनाथ बच्चों (Orphan) के लालन-पालन और उनकी शिक्षा-दीक्षा के लिये बीड़ा उठाया है. केंद्र और राज्य सरकार मिलकर अनाथ हुए बच्चों को 35 सौ रुपये हर महीने देगी.

सरकार जुटा रही डाटा

प्रदेश की सामाजिक न्याय एवं महिला बाल विकास मंत्री सरवीण चौधरी ने कहा कि प्रदेश सरकार ऐसे बच्चों का डाटा एकत्रित करेगी, जो इस महामारी के दौरान अपने अज़ीज परिजनों मां-बाप को ही खो चुके हैं. यानी पूरी तरह से अनाथ हो गए हैं, उन्होंने बताया कि प्रदेश और केंद्र की सरकार नव ऐसे बच्चों को उनका सामाजिक हक दिलाने का बीड़ा उठाया है, ताकि वो अपनों के भवनात्मक भाव के अभाव में फिसड्डी न हो जाएं और ख़ुद को हीन भावना का शिकार न बना लें.