राज्यपाल की गाड़ी रोकने और गाड़ी का घेराव पर 5 कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ केस दर्ज

शिमला: हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र (Himachal Assembly Budget Session) के पहले दिन सदन के अंदर और बाहर जमकर बवाल हुआ. इस दौरान कांग्रेस (Congress) सदस्यों ने राज्यपाल की गाड़ी रोक दी और गाड़ी का घेराव किया. जब राज्यपाल सदन से निकल रहे थे तो धक्कामुक्की भी हुई. मार्शलों को धक्का दिया गया और गाड़ी रोकी गई. अब इस मामले में 5 कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. मामले में नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्रिहोत्री, विधायक हर्षवर्धन चौहान, विनय कुमार, सतपाल सिंह रायजादा और सुंदर सिंह ठाकुर के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. शिमला के बालूगुंज थाने में केस दर्ज किया गया है. आईपीसी की धारा-124, 323, 341, 34 और 504 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है. विधानसभा सचिवालय ने केस दर्ज होने की पुष्टि की है.

कैसै शुरु हुआ हंगामा
दरअसल, पहले दिन 11 बजे बजट सत्र का आगाज हुआ. राज्यपाल ने अभिभाषण का अंतिम पन्ना पढ़ा और कहा कि उनका अभिभाषण पढ़ा मान लिया जाए. लेकिन कांग्रेस सदस्यों ने आरोप लगाया कि राज्यपाल का अभिभाषण झूठ का पुलिंदा है. कांग्रेस राज्यपाल के पूरा भाषण पढ़ने की मांग करते रहे और इसी बात से हंगामा हो गया. जब राज्यपाल सदन से जाने लगे तो सदन परिसर में बाहर उनकी गाड़ी रोक दी गई. इस दौरान विधानसभा उपाध्यक्ष ने भी कांग्रेस विधायकों को धक्के मारे. धक्कामुक्की में कैबिनेट मंत्री सुरेश भारद्वाज गिर गए. सीएम भी मौके पर काफी गुस्से में दिखे. जैसे-कैसे गर्वनर मौके से गए.

पांच कांग्रेसी सस्पेंड
हिमाचल के इतिहास में हंगामे के बाद पहली बार सदन की कार्रवाई दोबारा बुलाई गई और संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने सभी पांचों कांग्रेस विधायकों के निलंबन का प्रस्ताव लाया. बाद में इसे सदन ने पारित कर दिया और नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, कांग्रेस विधायक हर्षवर्धन चौहान, सतपाल रायजादा, सुंदर सिंह ठाकुर और विनय कुमार को पूरे सत्र के लिए सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं, अब इनके खिलाफ केस भी दर्ज हुआ है.