मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना: एक परिवार से एक व्यक्ति को ही मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना में अब एक परिवार से एक व्यक्ति को ही लाभ मिलेगा। प्रदेश सरकार ने योजना में संशोधन कर दिया है। अभी एक परिवार से तीन से चार लोग भी लाभ उठा रहे थे। सोमवार को राजपत्र में इस बाबत अधिसूचना जारी की गई। हर परिवार को योजना का लाभ पहुंचाने के लिए यह बदलाव किया गया है। 18 से 45 वर्ष की आयु के लोग योजना के तहत ऋण लेने के लिए पात्र हैं।

प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना 2019 के तहत आवेदन करने वाली महिलाओं के लिए ऊपरी आयु सीमा में पांच वर्ष की छूट देने का भी निर्णय लिया है। योजना के तहत अभी तक 1350 मामले बैंकों की ओर से स्वीकृत किए जा चुके हैं। निदेशक उद्योग राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के तहत प्रदेश के अधिक से अधिक युवाओं को स्वरोजगार के अवसर प्रदान करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

महिलाओं की आय बढ़ाएगी प्रदेश सरकार
हिमाचल प्रदेश की महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए राज्य सरकार बड़ी कवायद शुरू करने जा रही है। स्वयं सहायता समूह में काम करने वाली करीब ढाई लाख से ज्यादा महिलाओं को आर्थिक रूप से और सशक्त करने के लिए बड़ी रणनीति बनाई जा रही है। स्वयं सहायता समूह की आय में हर साल 50000 रुपये से ज्यादा की बढ़ोतरी के लिए एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा।

इसमें इन समूहों की ओर से किए तैयार किए जा रहे उत्पादों और कार्यों की डिमांड और सप्लाई को बढ़ाने के लिए एक मैकेनिज्म तैयार करने की भी तैयारी है। सूत्रों का कहना है कि सरकार इन स्वयं सहायता समूहों के जरिये महिलाओं के बीच मजबूत पैठ बनाने की कोशिश में जुटी है। बता दें, हाल ही में मुख्य सचिव राम सुभाग सिंह ने महिला कम बाल विकास के अलावा जिलों के उपायुक्तों के साथ बैठक कर इस संबंध में रणनीति तैयार करने के लिए निर्देश दिए थे। इसके बाद अब महिलाओं के बीच जयराम सरकार को लोकप्रिय बनाने के लिए कवायद शुरू की गई है।